मरियानी । जोरहाट जिले के एकमात्र वन्य प्राणी अभयारण्य गिबन के अस्तित्व के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। मरियासी व जोरहाट के कुछ व्यापारी गिबन का इस्तेमाल कूडेदान के रूप में कर रहे हैं । 

नकचारी के स्वयंसेवी संगठन अनुभूति ने गिबन अभयारण्य को स्वच्छ रखने तथा इसका अस्तित्व बचाने का बीड़ा उठाया है । लेकिन लगातार उनके प्रयास को धक्का  पहुंचाया जा रहा है। आज जोरहाट के एक व्यापारी ने 20 -25  बोरा सड़ा आलू  गिबन में फेंक कर जा रहा था । 

उसी वक्त अनुभूति के कार्यकर्ता दीपेश गोगोई, बजेन दहोतिया, बितुल कुर्मी, प्रांजल बरुवा ने गाडी सहित ड्राइवर बच्चा सिंह को पकड़ गिबन की सुरक्षा में तैनात  वन अधिकारी के हवाले कर दिया । वन विभाग गाडी व ड्राइवर को अपने कब्जे में ले लिया है।