गृहमंत्री राजनाथ सिंह असम में मंगलवार को बंगलादेश से घुसपैठ रोकने की आधुनिक प्रणाली की शुरुआत करेंगे। गृह मंत्रालय ने आज यहां बताया कि सिंह धुबरी जिले में बंगलादेश सीमा पर सीआईबीएमएस (व्यापक एकीकृत सीमा प्रबंधन प्रणाली) के तहत बोल्ड- क्यूआईटी (बॉर्डर इलेक्ट्रोनिकली डोमिनेटेड क्यूआरटी इंटरसेप्शन टेक्निक) परियोजना का उद्घाटन करेंगे।


जिले में सीमा क्षेत्र का 61 किलोमीटर का हिस्सा बहुत दुरूह है और विशेष रूप से बरसात के मौसम में इसकी रखवाली बहुत कठिन होता है। मंंत्रालय का कहना है कि सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ )बंगलादेश से लगी 4096 लंबी अंतर्राष्ट्रीय सीमा की सुरक्षा करता है लेकिन भौगोलिक परिस्थितियों के कारण हर जगह बाड़ लगाना संभव नही है।


इस समस्या से निपटने के लिए 2017 में प्रौद्योगिकीय समाधान का निर्णय लिया गया और पिछले वर्ष जनवरी में बीएसएफ की सूचना एवं प्रौद्योगिकी शाखा ने बोल्ड- क्यूआईटी (बॉर्डर इलेक्ट्रोनिकली डोमिनेटेड क्यूआरटी इंटरसेप्शन टेक्निक) परियोजना को रिकार्ड समय में पूरा कर लिया।


इस प्रणाली से ब्रहमपुत्र एवं इसकी सहयक नदियों के बिना बाड़ वाले क्षेत्र में माइक्रोवेव संचार, ओएफसी केबल्स, डीएमआर कम्युनिकेशन, निगरानी कैमरों और घुसपैठ का पता लगाने वाली प्रणाली से लैस डेटा नेटवर्क से कवर कर लिया गया है। ये आधुनिक उपकरण सीमा पर बीएसएफ नियंत्रण कक्ष को सूचना देते हैं जिससे अवैधरूप घुसपैठ रोकने में मदद मिलती है।