भारत के सर्वोच्च खेल सम्मान राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार का नाम बदल दिया गया है। अब से इसे मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरस्कार के नाम से जाना जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को यह घोषणा की। पुरस्कार का नाम बदलने की घोषणा भारत की पुरुष हॉकी टीम द्वारा टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने के ठीक एक दिन बाद हुई, जिसने ग्रीष्मकालीन खेलों में 41 साल के सूखे को समाप्त किया। 

पीएम मोदी ने ट्वीट किया कि “मुझे भारत भर के नागरिकों से खेल रत्न पुरस्कार का नाम मेजर ध्यानचंद के नाम पर रखने के लिए कई अनुरोध मिल रहे हैं। मैं उनके विचारों के लिए उनका धन्यवाद करता हूं। उनकी भावना का सम्मान करते हुए, खेल रत्न पुरस्कार को मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरस्कार कहा जाएगा ” ।

प्रधानमंत्री ने एक अन्य ट्वीट में ये भी कहा कि “पुरुष और महिला हॉकी टीम के असाधारण प्रदर्शन ने हमारे पूरे देश की कल्पना पर कब्जा कर लिया है। हॉकी के प्रति एक नए सिरे से रुचि है जो भारत की लंबाई और चौड़ाई में उभर रही है। यह आने वाले समय के लिए एक बहुत ही सकारात्मक संकेत है, ”।