Rajasthan Politics: राजस्थान की राजनीति में बड़ा उठापटक देखने को मिल रहा है।  इस बीच जयपुर के कांग्रेस मुख्यालय से Sachin Pilot के पोस्टर हटाने की खबर सामने आ रही है। पिछले कुछ दिनों से सीएम Ashok Gehlot और डिप्टी सीएम Sachin Pilot के बीच सियासी मनमुटाव चल रहा है। माना जा रहा है कि इसी कारण Ashok Gehlot समर्थकों ने कांग्रेस कार्यालय से Pilot के पोस्‍टर हटाए हैं। 

Sachin Pilot कांग्रेस विधायक दल की बैठक में हिस्‍सा लेने के लिए नहीं पहुंचे हैं. खबर सामने आ रही है कि Tourism Minister विश्‍वेंद्र सिंह भी बैठक में शामिल नहीं होने जा रहे. उन्‍होंने पार्टी को सूचना भी दे दी है। हालांकि उन्होंने यह कहा है कि वह व्‍यक्तिगत कारणों से बैठक में शामिल नहीं हो पाएंगे। लेकिन माना जा रहा है कि वह Sachin Pilot के समर्थन में कांग्रेस विधायक दल की मीटिंग में शामिल नहीं होंगे।

जिस तरह से Sachin Pilot के पोस्टर निकाले गए हैं, माना जा रहा है कि उन्हें पार्टी से निकालने का ऐलान भी किया जा सकता है। कांग्रेस पार्टी ने विधायक दल की मीटिंग के लिए व्हिप काफी पहले जारी कर दिया है। इसके बाद भी पायलट का न पहुंचना बगावत को साफ-साफ प्रदर्शित करता है।

माना जा रहा है कि उनको पार्टी से निकालकर रघुवीर मीणा और Mahesh Joshi को अगला कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष बनाया जा सकता है. सचिन पायलट के बगावती तेवर के बाद राजस्‍थान कांग्रेस ने सख्‍त रुख अपना लिया है। कांग्रेस विधायक दल की बैठक के लिए पार्टी ने जो व्हिप जारी किया गया है। उसके अनुसार बैठक में मौजूद रहने की बाध्यता हो गई है। और जो विधायक बैठक में नहीं पहुंचेंगे, उनकी सदस्यता समाप्त हो जाएगी। 

Sachin Pilot अगर बीजेपी में शामिल होते हैं तो राजस्थान की गहलोत सरकार के लिए बड़ा झटका होगा।  सूत्रों के मुताबिक, पायलट खेमे के 27 विधायक भी बीजेपी में शामिल हो सकते हैं।  इसके अलावा तीन निर्दलीय विधायक भी बीजेपी से जुड़ सकते हैं।  सचिन पायलट ने दावा भी किया है कि 30 विधायक उनके साथ हैं। 

दूसरी तरफ Sachin Pilot के भाजपा में आने की अटकलों पर BJP के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया का एक बयान सामने आया है। उन्होंने कहा है कि Sachin Pilot का भाजपा में स्वागत है। उन्होंने कहा कि यह सारी लड़ाई कांग्रेस पार्टी की आपसी कलह की वजह से है।