जोराबाट । राभा दिवस पर मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने राज्यवासियों से आह्वान करते हुए कहा कि वह भ्रष्टाचार के खिलाफ चुप न बैठे, आवाज उठाए । मुख्यमंत्री ने बुधवार को राजधानी गुवाहाटी के सोनापुर स्थित असम राज्य सरकार के सांस्कृतिक निदेशालय के सौजन्य से आयोजित 49वें  विष्णु रभा  दिवस के अवसर पर उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि यदि हमें शक्तिशाली होना तो हमें कुसंस्कृति से मुक्त होना होगा ।

 समाज के प्रत्येक महिला-पुरुष को आगे बढ़कर काम करना होगा । अभिभावक अपने बच्चों को अच्छे स्कूल में भर्ती कराने के साथ-साथ अपने बच्चे को सही रास्ता दिखाने का काम करना होगा । मां  अपने बच्चे को सबसे अच्छी नीति की शिक्षा दे सकती है । उन्होंने कहा कि जनता के द्वारा बनाया गया में मुख्यमंत्री हूं । 

आप लोग कभी भी दिसपुर से लेकर पंचायत तक किसी भी प्रकार के भ्रष्टाचार या घोटाला, घूसखोरी आदि देखे तो तुरंत उसके खिलाफ जमकर आवाज उठाएं । कभी चुप न बैठें । में हमेशा आप लोगों  के साथ हूं। उन्होंने कहा कि असम एक ऐसा राज्य है जहां हिदू मुस्लिम, सिख, ईसाई, बौद्ध, जैन आदि धर्मों के लोग एक साथ मिल खुलकर शांतिपूर्ण तरीके से रहते आ रहे हैं, जो अपने आप में देश के अन्य राज्यों के लिए एक उदाहरण है । 

वहीं इस दौरान मुख्यमंत्री ने दो लोगों को सम्मानित भी किया । वर्ष 2018 विष्णु राभा पुरस्कार प्रसिद्ध भास्कर शिल्प जनक झंकार नर्जारी और नृत्य शिल्पी भुनेश्वर भुइंया को प्रदान किया । इस मौके पर मंत्री नव कुमार दलै, दिसपुर के विधायक अतुल बोरा, विधायक रमेंद्र नारायण कलिता, संसद प्रदान अरुवा, कामरूप (मेट्रो ) जिला उपायुक्त के अलावा अन्य कई गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे ।