अब ट्रेन यात्रियों की कमर में दर्द नहीं होगा क्योंकि इसके साइड लोअर बर्थ डिजाइन में बदलाव किया जा रहा है। अक्सर साइड लोअर बर्थ में सफर करने वाले यात्रियों की शिकायत रहती है कि उन्हें सोने में परेशानी का सामना करना पड़ता है, दोनों सीटों के बीच गैप की वजह से यात्रियों की पीठ में दर्द की शिकायत रहती है।

इस नए डिजाइन को लेकर कई रिपोर्ट्स आई थीं, कुछ दिन पहले ही Twitter पर एक वीडियो भी काफी वायरल हुआ था। जिसमें एक अधिकारी नई लोअर साइड बर्थ की खूबियों बारे में बताता हुआ दिख रहा है। इस वीडियो को अब रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भी tweet किया है। दरअसल, ट्रेनों में लोअर साइड बर्थ पर बैठने के लिए Split Option होता है। जब किसी यात्री को सोना होता है तो वो सीट को जोड़ देता है, लेकिन बीच में गैप (Gap) होने की वजह से यात्री को सोने में काफी तकलीफ होती है।

नए डिजाइन Split Option तो रहेगा लेकिन अलग से एक Slide Seat दी गई है, जो विंडो की तरफ होती है। जब यात्री को सोना होगा तो वो उसे खींचकर ऊपर कर लेगा, जिससे दोनों सीटों के बीच का गैप ढंक जाएगा। इस नए डिजाइन से यात्री को बीच के गैप की वजह से कोई परेशानी नहीं होगी और लंबी यात्रा के दौरान सोते वक्त उनकी पीठ में दर्द भी नहीं होगा।

कुछ महीने पहले ये खबर आई थी कि रेलवे नॉन-एसी स्लीपर और जनरल क्लास कोच को अपग्रेड करने की योजना बना रहा है। इसी सिलसिले में भारतीय रेलवे अनारक्षित जनरल क्लास कोच और 3-टियर नॉन एसी स्लीपर क्लास कोच को एसी कोच में री-डिजाइन कर रहा है। रेलवे के इस कदम से यात्रियों को सस्ते में एसी ट्रेनों में सफर करने का मौका मिलेगा।