भारतीय रेल अंगीकृत पैन-इंडिया नीति की तर्ज पर आगामी 2 अक्टूबर से पूर्वोत्तर सीमा रेलवे, रेलवे परिसर में चरणबद्ध  तरीको से सिंगल यूज प्लास्टिक खत्म करेगी। बुधवार से शूरू स्वच्छता ही सेवा अभियान के प्रथम दिन पूसी रेलवे मुख्यालय में आयोजित एक औपचारिक कार्यक्रम में रेलवे कर्माचरियों को स्वच्छता  की शपथ दिलाते समय महाप्रबंधक संजीव राय ने यह घोषणा की। यह  अभियान 2 अक्टूबर, 2019 जारी रहेगा।


इस अवसर पर बड़ी संख्या में कर्मचारी तथा अधिकारियों ने शपथ ली, जिसके उपरांत श्रमदान कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें भागीदारों ने रेलवे मुख्यालय परिसर की सफाई अभियान में भाग लिया। इसी तरह के कार्यक्रम का आयोजन रेलवे के सभी पांच मंडल मुख्यालय यानी तिनसुकिया, लामडिंग, रंगिया, अलीपुरद्वार तथा कटिहार में भी किया गया, जिसमें मंडल रेल प्रबंधक द्वारा स्वच्छता शपथ दिलाई गई, तत्पश्चात कर्माचरियों तथा अधिकारियों द्वारा श्रमदान किया गया।


महाप्रबंधक ने पर्यावरण को हो रहे नुकसान के मद्देनजर मानव जाति के लिए खतरनाक रुप धारण कर रही प्लास्टिक के अत्यधिक प्रयोग के खिलाफ रेल उपभोक्ताओं तथा रेलवे कर्मचारियों में जागरूकता लाने पर भी बल दिया। उन्होंने रेलवे कर्मचारियों को सभी अपशिष्ट सामग्रियों को बायो-डिग्रेडेबल तथा नाॅन-बाॅयो-डिग्रेडेबल  में विभाजित करने तथा समुचित निपटान के लिए पृथक कूडेदानों में डालने की अपील की। राय ने प्लास्टिक को यथा संभव रिसाइकिल करने की आदत डालने पर भी बल दिया।

उन्होंने कहा कि पूसी रेलवे ने 2 अक्टूबर के अंदर सभी ए-  1तथा ए श्रेणी स्टेशनों पर प्लास्टिक बोतल क्रशरों की स्थापना करने की योजना बनाई है। उल्लेखनीय है कि भारतीय रेलवे इस वर्ष 11 सितंबर से   2 अक्टूबर तक एक विशेष स्वच्छचता अभियान का पालन कर रही है।


प्लास्टिक के प्रयोग रोकने, एकल प्रयोग प्लास्टिक के उन्मूलन, बेहतर स्वच्छचता आदतों का अनुसरण के साथ खुले में शौच तथा बायों-टाॅयलेटों के समुचित प्रयोग पर सभी पक्षों को सूचित, शिक्षित तथा जानकारी देने के लिए इस अवधि के दौरान कई कार्यक्रम आयोजित करने की योजना बनाई गई है। यह जानकारी मुख्य जनसंपर्क अधिकारी शुभानन चंदा ने दी है।