बुलेट ट्रेन का भारत में लोगों को बेसब्री से इंतजार है। ट्रेन की स्पीड से लेकर उनके किराये तक के बारे में लोग जानना चाहते हैं। पहली बुलेट ट्रेन मुंबई से अहमदाबाद के बीच चलाई जाएगी। उम्मीद है कि यह 2026 तक यात्र‍ियों के ल‍िए शुरू हो जाएगी। दरअसल, अब तक  महाराष्‍ट्र में पूरी तरह जमीन अध‍िग्रहण नहीं होने पर बुलेट ट्रेन प्रोजेक्‍ट का काम रुका हुआ है। रेल मंत्री Ashwini Vaishnaw ने कहा क‍ि सरकार यात्र‍ियों की सुव‍िधाओं पर रात-दिन काम कर रही है। बातचीत के दौरान रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने बुलेट ट्रेन के क‍िराये को लेकर भी इशारा द‍िया था।

यह भी पढ़े : बजरंगबली की इन 3 प्रिय राशियां पर सावन के आखिरी मंगलवार को होगी हनुमान जी की विशेष कृपा

रेल मंत्री ने कहा कि किराये पर अभी तक कोई फैसला नहीं किया गया है। लेकिन यह लोगों की पहुंच में ही होगा। इसके लिए फर्स्ट एसी को आधार बनाया जा रहा है, जो बहुत ज्यादा नहीं है। यानी बुलेट ट्रेन का किराया फर्स्ट एसी के किराये के आसपास हो सकता है।

रेल मंत्री ने बातचीत के दौरान यह भी कहा क‍ि बुलेट ट्रेन का क‍िराया फ्लाइट से कम होगा और इसमें सुविधाएं भी अच्छी मिलेंगी। हालांकि बुलेट ट्रेन के किराये को लेकर उन्होंने यह कहा क‍ि यह प्रोजेक्ट पूरा होने के बाद तय किया जाएगा। नितिन गडकरी के अनुसार, मुंबई-अहमदाबाद हाईस्पीड रेल प्रोजेक्‍ट पूरा होने के बाद ही दूसरी हाईस्पीड रेल परियोजना शुरू की जाएगी। सरकार बुलेट ट्रेन को लेकर गम्भीरता से काम कर रही है। 

आपको बता दें कि मुंबई से अहमदाबाद के बीच 508 किमी की दूरी में कुल 12 स्टेशन होंगे। इसके अलावा दिल्ली से वाराणसी तक जाने वाली बुलेट ट्रेन के गौतबुद्धनगर जिले में दो स्टॉपेज होंगे। इसके तहत दिल्ली के सराय काले खां से चलने के बाद इसका पहला स्टॉपेज नोएडा सेक्टर-148 में होगा। दूसरा स्टॉपेज नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर होगा। यानी इस हिसाब से आप महज  21 मिनट में जेवर एयरपोर्ट पहुंच जाएंगे 

यह भी पढ़े : राशिफल 9 अगस्त : आज सावन का आखिरी मंगलवार, इन राशि वालों बरसेगी भोलेनाथ के साथ बजरंगी बली की कृपा

दिल्ली से वाराणसी जाने के लिए नोएडा सेक्टर-148, जेवर एयरपोर्ट, मथुरा, आगरा, इटावा, कन्नौज, लखनऊ, रायबरेली, प्रतापगढ़, भदोही, वाराणसी तक कुल 11 स्टोपेज होंगे।