बंगाईगांव रेलवे मजदूर यूनियन ने कल शहीद दिवस कार्यक्रम का आयोजन किया जिसमें पुलिस की गोलियों से शहीद हुए रेलवे कर्मचारियों को शहीदों का दर्जा देने की मांग की गई. 

आपको बता दें की 19 सितम्बर 1968 को रेलवे कर्मचारियों ने अपनी विभिन्न मांगों को लेकर एक दिन का देशव्यापी आदोंलन किया था जिसके तहत देशभर में एक भी ट्रेन नहीं चली थी और रेलवे के सभी कर्मचारी हड़ताल पर चले गए थे. 

उस आंदोलन के दौरान पुलिस द्वारा गोलियां चलाने से दस रेलवे कर्मचारियों की मौत हो गयी थी अतः कर्मचारियों की मौत को शहीद की मौत का दर्जा देने के लिए शहीद दिवस का आयोजन किया गया, जिसमे ऑल इंडिया रेलवे फेसरेशन के सचिव राखल दास गुप्ता, आशीष बिश्वास ,समर सेन गुप्ता, साधन सिकदर, फणीधर दास, रमणी बर्मन, दिलीप चक्रवर्ती आदि मौजूद थे.  

इस कार्यक्रम का आयोजन रंगिया, ग्वालपाड़ा , अलीपुर , कटिहार आदि में भी किया गया और सरकार से प्रदर्शन के दौरान मरे गए रेलवे कर्मचारियों को शहीद का दर्जा देने की मांग की गयी.