लखीमपुर खीरी हिंसा (Lakhimpur Kheri violence) के मामले में गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा (Union Minister Ajay Mishra Teni ) के इस्तीफे की मांग को लेकर गुरुवार को लोक सभा में जमकर हंगामा हुआ। दूसरी तरफ, कुछ टीवी रिपोर्ट्स के मुताबिक बीजेपी आलाकमान ने पत्रकारों से बदसलूकी करने वाले टेनी को सख्त वॉर्निंग दी है। हालांकि, उनका मंत्री पद शायद न छिने। सरकार ने संसद में भी इसके संकेत दिए हैं। बता दें कि प्रश्नकाल के दौरान जब लोक सभा स्पीकर ओम बिरला ने कांग्रेस सांसद राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को प्रश्न पूछने का मौका दिया तो उन्होंने लखमीपुर हिंसा के मामले में अजय मिश्रा पर निशाना साधना शुरू कर दिया। स्पीकर लगातार उनसे प्रश्न पूछने की अपील करते रहे।

इसके साथ ही हंगामा करने वाले सांसदों को फटकार लगाते हुए लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला (Om Birla) ने कहा कि सदन तख्तियां लहराने और नारे लगाने के लिए नहीं है। इस दौरान ओम बिरला लगातार ये भी कहते रहे कि सभी विषयों को उठाने का मौका दिया जाएगा, लेकिन प्रश्नकाल तो चलने दीजिए। स्पीकर की अपील को अनसुना करते हुए विरोधी दलों के सांसद अजय मिश्रा और लखीमपुर कांड (Lakhimpur Kheri violence) को लेकर नारेबाजी करते रहे, तख्तियां लहराते रहे । इस हंगामे और नारेबाजी को देखते हुए लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सदन की कार्यवाही को दोपहर बाद 2 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया।

बता दें कि एसआईटी रिपोर्ट (SIT report) में किसानों की मौत को सोची-समझी साजिश का नतीजा बताए जाने के बाद से हमलावर विपक्ष को केंद्रीय मंत्री टेनी की गुंडई से सरकार के खिलाफ और आक्रामक होने का मुद्दा मिल गया है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul gandhi) तो तुरंत ट्विटर पर ऐलान किया कि खुद को कानून से ऊपर समझने वाले मंत्री का इस्तीफा दिलवाकर ही मानेंगे। अब पार्टी सड़कों पर भी उतर चुकी है। लखनऊ में कांग्रेस कार्यकर्ता 'टेनी को बर्खास्त करो' के नारे लगाते हुए प्रदर्शन कर रहे हैं। युवा कांग्रेस ने भी गुरुवार को संसद भवन के नजदीक टेनी के इस्तीफे की मांग को प्रदर्शन करने का ऐलान किया है।