कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरुवार को पूर्वोत्तर राज्यों के लिए बनी पार्टी की समन्वय समिति की बैठक की अध्यक्षता की। बैठक में चुनावो में हुए नुकसान को ध्यान में रखते हुए पार्टी को मजबूत करने के तरीकों पर चर्चा हुई। 

राहुल गांधी ने अपने ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट पर समिति के सदस्यों के साथ हुई बैठक की तस्वीर साझा की। राहुल गांधी ने लिखा, नॉर्थ ईस्ट कांग्रेस समन्वय समिति की बैठक में पार्टी को मजबूत करने के तरीकों पर चर्चा हुई। समिति के  अध्यक्ष मेघालय के मुख्यमंत्री मुकुल संगमा हैं। बैठक में संगमा के अलावा अरुणाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री नबाम तुकी और मणिपुर के पूर्व मुख्यमंत्री इबोबी सिंह शामिल हुए। नवंबर 2016 में समिति को पुर्नगठित किया गया था। इसके बाद समिति की गुरुवार को पहली बैठक हुई। 

बैठक में शामिल हुए एक सदस्य ने बताया कि हमने बैठक में पूर्वोत्तर राज्यों में पार्टी संगठन और एनईसीसीसी को मजबूत करने पर चर्चा की। इस बात पर भी चर्चा हुई कि नॉर्थ ईस्ट में कांग्रेस क्यों हारी। विधानसभा चुनाव में पार्टी के खराब प्रदर्शन की समीक्षा की गई। एआईसीसी के महासचिव सीपी जोशी ने कहा, पूर्वोत्तर राज्यों में समस्याओं और संगठनात्मक मसलों पर विचार विमर्श हुआ। समिति के सदस्य अपने बीच चर्चा करेंगे और क्षेत्र में पार्टी को आगे ले जाने को लेकर प्रस्ताव देंगे। गौरतलब है कि असम में कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा थ। इस साल मार्च में मणिपुर में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरने के बावजूद सरकार नहीं बना पाई। अरुणाचल प्रदेश में भी भाजपा ने कांग्रेस के विधायकों को अपने पाले में लाकर सरकार बना ली।