कोच्चि शहर को 'अरब सागर की रानी' के नाम से जाना जाता है, यहां घूमने-फिरने के लिए बहुत सारे खूबसूरत स्थान हैं। इसके साथ ही ये शहर मसालों के व्यापार का केंद्र बना हुआ है। समुद्र किनारे बसा यह शहर देखने में बहुत सुंदर है। यहां का सौंन्दर्य ही लोगों को अपनी और आकर्षित करता है।

कोच्चि शहर भारत के सर्वश्रेष्ठ पर्यटन आकर्षणों में छठे स्थान पर है। यहां पर अगर आप भी घूमने का मन बना रहें हैं तो आपके लिए खाफी सारी जगह हैं जो आपका मन लुभा सकती हैं। प्राचीन समय की अगर बात करें तो कोच्चि शुरू से ही एक बन्दरगाह के रूप में जाना जाता है। मूल रूप से कोच्चि 12वीं शताब्दी में हुए चेर वंश के पतन के बाद ही उभर कर अस्तित्व में आया था। यहां के प्रमुख पर्यटन स्थल हैं...

सेंट फ्रांसिस चर्च :-


सेंट फ्रांसिस चर्च भारत का पहला यूरोपियन चर्च है जिसका निर्माण 1503 में किया गया। कई हमलों और अनगिनत समझौतों के साक्षी इस चर्च को कोच्चि के सांस्कृतिक इतिहास में महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है।

कोच्चि किला :-


कोच्चि किला कोच्चि शहर का एक हिस्सा है परंतु यह समुद्र के एक खंड के पार स्थित है। एक मज़बूत पुल कोच्चि किले को बाकी की दुनिया से जोड़ता है। यह स्थान इतिहास, कला, भोजन और धर्म के मामले में पर्यटकों के लिए बहुत खास है।

मट्टनचेरी महल :-


मट्टनचेरी महल फोर्ट कोच्चि में स्थित है और यह डच महल के नाम से भी जाना जाता है। यह उन विभिन्न संस्कृतियों का समृद्ध मिश्रण प्रस्तुत करता है जिन्होंने कोच्चि को अपना घर बनाया था। प्रतिवर्ष पर्यटक इस मध्युगीन आकर्षण की ओर आकर्षित होते हैं।

चेराई बीच :-


चेराई बीच कोच्चि के लोकप्रिय समुद्र तटों में से एक है। स्थानीय निवासी और पर्यटक सूर्योदय और सूर्यास्त के दृश्य का आनंद उठाने के लिए यहां आते हैं।