छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण ने भयावह रूप ले लिया है। प्रदेश में संक्रमण के साथ मौतों की रफ्तार भी तेज होती जा रही है। इसी बीच त्रिपुरा के राज्यपाल रमेश बैस की बहू पूर्णिमा बैस पति प्रमोद बैस का निधन हो गया। पूर्णिमा बैस कोरोना संक्रमित थीं। रायपुर के एक निजी अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था। पूर्णिमा बैस रायपुर जिला भाजपा जिला महामंत्री ओंकार बैस की भाभी थीं।

हालांकि, प्रदेश में कोरोना संक्रमण की रफ्तार पर रविवार को थोड़ा ब्रेक लगा, क्योंकि राज्य ने शनिवार की तुलना में 10 हजार कम टेस्ट किए। रविवार को 40,178 संदिग्ध सैंपलों की जांच में 10521 मरीजों में संक्रमण की पहचान हुई, जिनमें एक बार फिर सर्वाधिक 2833 मरीज राजधानी रायपुर में रिपोर्ट हुए। मगर, अच्छी खबर यह रही कि लंबे समय के बाद एक दिन में 5707 मरीज स्वस्थ होकर घर भी लौटे।

उधर, प्रदेश में एक्टिव मरीजों की आंकड़ा 90 हजार पार होते हुए 90,277 जा पहुंचा है। वहीं बीते 24 घंटे में और 82 मरीजों ने इलाज के दौरान दमतोड़ दिया। इनमें से सर्वाधिक 37 मौतें रायपुर में हुई। रायपुर में बीते 4 दिन से रोजाना 30 से अधिक मरीजों की जान जा रही है। मच्र्युरी में अब लाशों को रखने की जगह नहीं है, तो श्मशानघाट में अंतिम संस्कार के लिए जगह कम पड़ रही है। रायपुर में 29 मई से लेकर 11 अप्रैल तक 1203 जा चुकी हैं। रायपुर के बाद सर्वाधिक 923 मौतें दुर्ग जिले में हुईं।

सामान्य प्रशासन विभाग एवं खाद्य विभाग के सचिव डॉ. कमलप्रीत सिंह कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। उनकी पत्नी और बच्चों की भी जांच करवाई गई है। तो वहीं राजस्व मंडल बिलासपुर के अध्यक्ष सीके खेतान की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। पूर्व में भी कई आईएएस, आईपीएस अधिकारी संक्रमित हो चुके हैं। मंत्रालय, सचिवालय के अधिकारी-कर्मचारी भी बड़ी संख्या में संक्रमित हुए हैं।