पब्लिक सेक्टर के पंजाब नेशनल बैंक ने ग्राहकों से फाइनेंशियल ईयर 2021-22 में एटीएम ट्रांजेक्शन चार्ज वसूल कर 645 करोड़ रुपये से ज्यादा की कमाई की है। इस बैंक ने एक आरटीआई के जवाब में इसकी जानकारी दी है। इसके अलावा पीएनबी ने मिनिमम बैलेंस मेंटेन नहीं करने के नाम पर भी करोड़ों रूपये कमाए हैं।

यह भी पढ़ें : केंद्र ने दीमा हसाओ में रेलवे लाइन की बहाली के लिए 180 करोड़ रुपये की मंजूरी दी

आपको बता दें कि मध्यप्रदेश के आरटीआई एक्टिविस्ट चंद्रशेखर गौर ने दूसरे सबसे बड़े सरकारी बैंक से इनकी जानकारी मांगी थी। बैंक ने सूचना के अधिकार के तहत पूछे गए सवालों के जवाब में बताया कि 2021-22 में उसने एटीएम ट्रांजेक्शन चार्जेज से 645।67 करोड़ रुपये की कमाई की। इसी तरह बैंक अकाउंट में मासिक और तिमाही आधार पर मिनिमम बैलेंस मेंटेन नहीं कर पाने वाले ग्राहकों से पीएनबी ने बीते फाइनेंशियल ईयर में 239.09 करोड़ रुपये की कमाई की।

इससे पहले पीएनबी ने मिनिमम बैलेंस मेंटेन नहीं करने वाले खाता धारकों से 2020-21 में 170 करोड़ रुपये वसूल किए थे। पीएनबी ने कहा कि 2021-22 में मिनिमम बैलेंस मेंटेन नहीं करने के कारण 85,18,953 बैंक अकाउंट से चार्जेज वसूल किए गए। जीरो बैलेंस अकाउंट की संख्या के बारे में पूछे जाने पर बैंक ने बताया कि 31 मार्च 2022 तक के आंकड़ों के अनुसार, ऐसे अकाउंट की संख्या 6,76,37,918 है।

यह भी पढ़ें : कांग्रेस पर जोरदार भड़के केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू, कहा- 'सीमावर्ती विकास को रोकने के लिए कांग्रेस है दोषी'

पिछले चार साल के आंकड़ों को देखें तो पीएनबी में जीरो बैलेंस अकाउंट की संख्या लगातार बढ़ी है। फाइनेंशियल ईयर 2018-19 के अंत तक यानी 31 मार्च 2019 तक पीएनबी में इस तरह के अकाउंट की संख्या 2,82,03,379 थी। एक साल बाद यानी 31 मार्च 2020 तक इनकी संख्या बढ़कर 3,05,83,184 पर पहुंच गई। इसके एक साल बाद इनकी संख्या और बढ़ी और आंकड़ा 31 मार्च 2021 तक 5,94,96,731 पर पहुंच गया।