जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकवादी हमले में शहीद हुए विजय सोरेंग के सदमे में एक जवान की मौत हो गई। वे नागालैंड में सीमा सुरक्षा बल में पदस्‍थापित थे। बताया जा रहा है कि घटना की सूचना मिलने के बाद जवान आक्रोशित हो गया था। उसके बाद उनकी तबियत अचानक बिगड़ गई, जिसके बाद उनकी मौत हो गई। जवान का पार्थिव शरीर आज घर आएगा। इस घटना से क्षेत्र में सन्‍नाटा पसर गया है। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है।

वहीं दूसरी तरफ जम्मू-कश्मीर में पुलवामा में रात 12 बजे से चल रहे एनकाउंटर में जैश-ए-मोहम्मद के दो आतंकवादी मारे गए हैं। खबरों के मुताबिक इस मुठभेड़ में पुलवामा में CRPF काफिले पर आत्मघाती हमले का मास्टरमाइंड गाजी रशीद के भी मारे जाने की सूचना है। हालांकि अभी इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। करीब 11 घंटे चले मुठभेड़ में एक अन्य आतंकवादी भी ढेर किया गया है। अभी भी 5 आतंकवादियों के छिपे होने की खबर है।  

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, गाजी रशीद और एक अन्य आतंकी पुलवामा हमले के बाद भागने में कामयाब रहे थे जबकि एक आतंकी मोहम्मद आदिल डार आत्मघाती हमले में मारा गया था। एजेंसियों से मिली सूचना के मुताबिक गाजी जैश के सरगना मौलाना मसूद अजहर के सबसे विश्वसनीय करीबियों में से एक है। गाजी को युद्ध तकनीक और IED बनाने का प्रशिक्षण तालिबान से मिला है और इस काम के लिए उसे जैश का सबसे भरोसेमंद माना जाता है। गाजी रशीद ही पुलवामा का मुख्य साजिशकर्ता था।