पूर्व भारतीय कोच रवि शास्त्री ने खराब दौर से गुजर रहे पूर्व भारतीय कप्तान विराट कोहली को आईपीएल से हट जाने की सलाह दी है। इस सीजन में खेली गई नौ आईपीएल पारियों में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु (आरसीबी) के बल्लेबाज कोहली 16 की औसत से 128 रन ही बना पाए हैं। आईपीएल 2022 में कम स्कोर की स्ट्रिंग में दो बैक-टू-बैक गोल्डन डक भी शामिल हैं। 

ये भी पढ़ेंः बैंक ग्राहक भूलकर भी नहीं उठाएं इन 2 नंबरों से आया कॉल, नहीं तो हो जाएगा बड़ा नुकसान


शास्त्री ने विराट को आईपीएल में उनके हालिया खराब प्रदर्शन पर टिप्पणी करते हुए, सुझाव दिया है कि दाएं हाथ के बल्लेबाज को टी 20 टूर्नामेंट से ब्रेक लेने और‘संतुलन खींचने की जरूरत है। शास्त्री ने कहा, उनके (विराट कोहली) के लिए एक ब्रेक आदर्श है क्योंकि उन्होंने नॉन-स्टॉप क्रिकेट खेला है और उन्होंने सभी प्रारूपों में टीम की कप्तानी की है। ब्रेक लेना उनके लिए समझदारी होगी। पूर्व भारतीय कोच ने कहा, आप जानते हैं, कभी-कभी आपको संतुलन बनाना पड़ता है। इस साल वह पहले से ही टूर्नामेंट (आईपीएल 2022) में है, कल अगर धक्का लगता है और आप अपने अंतरराष्ट्रीय करियर को लंबा करना चाहते हैं और 6-7 साल के लिए वहां अपनी पहचान बनाना चाहते हैं, आईपीएल से हट जाओ, आप सभी की परवाह है।  सिर्फ आईपीएल ही नहीं, भारत के लिए कोहली भी हाल में शानदार फॉर्म में नहीं रहे हैं। 

ये भी पढ़ेंः राम मंदिर और अनुच्छेद 370 के बाद एक और बड़ा कदम उठाने जा रही है मोदी सरकार, देश में मचेगी खलबली


2019 में बांग्लादेश के खिलाफ डे-नाइट टेस्ट मैच में अपना आखिरी अंतरराष्ट्रीय शतक बनाने के साथ ही तीन अंकों के निशान ने उन्हें बाहर कर दिया। शास्त्री ने उल्लेख किया कि विराट कोहली के पास अभी भी बहुत सारे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट बाकी हैं और इस खराब पैच को उन्हें ड्रॉइंग बोर्ड में वापस धकेलना चाहिए। उन्होंने कहा, विराट अभी युवा हैं और उनके पास 5-6 साल आगे हैं। उन्हें एहसास हो गया होगा कि इन पिछले कुछ महीनों में उन्होंने क्या किया है। उन्हें पता है कि उन्हें ड्रॉइंग बोर्ड में वापस जाना है, वह कैसे सोचते हैं, कैसे वह पास आता है और उसे सचमुच खरोंच से शुरुआत करनी होती है।  

विराट कोहली दुनिया के सार्वकालिक सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में से एक हैं, लेकिन राजस्थान रॉयल्स ने उनके खिलाफ मंगलवार के टी20 मैच में दो लेग साइड के कैचर (शॉर्ट स्क्वेयर लेग और शॉर्ट मिडविकेट) के साथ शुरुआत की। तीसरी ही गेंद एक कैचर (शॉर्ट स्क्वेयर लेग) से बस एक या दो इंच पहले गिरी। यह दिखाता है कि कैसे विराट कोहली विपक्षी टीम के जाल में आसानी से फंस जा रहे हैं। अब यह कहने में कोई संकोच नहीं होना चाहिए कि कोहली इस समय खराब फॉर्म से जूझ रहे हैं। उनका पिछला पांच स्कोर 9, 0, 0, 12 और 1 का रहा है। हालांकि ऐसा कई खिलाड़ियों के साथ हो चुका है, जो बुरे फॉर्म से उबरकर इस समय सर्वश्रेष्ठ फॉर्म में हैं। केएल राहुल 2020-21 में 0, 1, 0, 0 और 14 के स्कोर के साथ खराब फॉर्म से जूझ रहे थे, वहीं निकोलस पूरन का भी स्कोर पिछले आईपीएल सीजन में 0, 0, 0, 0, 9, 0, 19, 0 और 32 का था। 

इस सीजन केएल राहुल सर्वाधिक रन बनाने वालों की सूची में दो शतक के साथ दूसरे स्थान पर हैं, वहीं निकोलस पूरन भी 56 के बेहतरीन औसत से रन बना रहे हैं। राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ मैच में कोहली सलामी बल्लेबाज के तौर पर आए। उन्होंने दो चौके लगाए लेकिन दोनों में आत्मविश्वास की कमी दिखी। पहला चौका जब उन्होंने स्क्वेयर लेग की दिशा में फ्लिक करके मारा तो ऐसा लगा कि जैसे बल्ले का हैंडल उनके हाथ से सरक गया हो और गलती  से चौका चला गया। वहीं दूसरा चौका तो अंदरुनी किनारा लेकर स्टंप के बिल्कुल बगल से गुजरा  इसके बाद दो और अंदरुनी किनारे लगे और दोनों बार वह प्लेड ऑन होने से बाल-बाल बचे।

 रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु में कोहली को दुनिया के सबसे व्यस्ततम इंसानों में जाना जाता है। टीम के लिए जैसे वह किसी विश्व स्तरीय नेता के समान हैं। अगर आपको उनसे थोड़ी देर के लिए भी बात करनी है तो आपको स्पष्ट और संक्षिप्त होना होगा। ऐसा कहा जाता है कि 2018 के सीजन  में कप्तान होने के बावजूद भी उन्होंने अपने टीम के एनालिस्ट से कभी बात नहीं की थी। हालांकि यह सीजन  उनके लिए बहुत शानदार गया था और उन्होंने 48 के औसत और 139 के स्ट्राइक रेट से 530 रन बनाए थे।