गुवाहाटी। महानगर के पबों, बारों तथा बार एवं रेस्टोरेंट के साथ -साथ रेस्टोरेंट परिसर में सुरक्षा के पुख्ता  इंतजाम के निर्देश जारी किए गए हैं। कामरूप (मेट्रो) के जिला उपायुक्त डॉ. एम अंगामुथु ने इस आशय के अधिसूचना जारी करते हुए उपरोक्त सभी स्थानों पर सुरक्षा संबंधी एहतियात बरतने की अपील की है।

 इतना ही नहीं जिला उपायुक्त ने संबंधित विभागों से  नवीनतम सुरक्षा प्रमाण -पत्र प्राप्त कर तीन दिनों के भीतर इसे जिला उपायुक्त कार्यालय में दाखिल करने को कहा है । निर्धारित समय -सिमा  तक वैध सुरक्षा लाइसेंस को दाखिल नहीं करने में असफल पबों, बारों तथा रेस्टोरेंट आदि के लाइरपेस को रद्द अथवा निलंबित कर दिए जाने की भी चेतावनी दी  है।

मालूम हो कि हाल ही में मुंबई के एक बड़े रेस्टोरेंट में अग्निकांड की घटना हुई जिसमें 34 लोगों की मौत हो गई थी। उल्लेखनीय है कि जिला प्रशासन को मिली जानकारी के मुताबिक महानगर के ऐसे कई पब, बार तथा रेस्टोरेंट आदि  में सुरक्षा के न्यूनतम इंतजाम भी नहीं है । नतीजतन वहां आमोद-प्रमोद अथवा खान-पान के लिए पहुंचे ग्राहकों को किसी अप्रिय घटना को चपेट में आ जाने का भय बना रहता है।

इतना ही नहीं इन पबों, बारों एबं रेस्टोरेंट के मालिक खाद्य सुरक्षा नियमों तक का पालन नहीं करते और खुलेआम अनावश्यक वस्तु अधिनियम 1955 के प्रावधानों का उल्लंघन कर रहै है ।

मालूम हो कि जिला प्रशासन ने सुरक्षा उपायों के मद्देनजर निम्नलिखित कारकों पर ध्यान देने एवं इसकी व्यवस्था करने के निर्देश दिए है । अग्नि सुरक्षा: रेस्टोरेंट, पब आदि के भवन में अग्निशमन का संस्थापन, अग्निकांड के दौरान समुचित निकासी की व्यवस्था और इसे चिन्हित करना ।

आदेश में राज्य सरकार के मुख्य  विद्युत निरीक्षक सह सलाहकार द्वारा समुचित रूप में परीक्षित विद्युत सुरक्षा उपायों के उपकरण सबंधी कागजात तथा नवीनतम विद्युत सुरक्षा प्रमाण पत्र, राज्य सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण  विभाग द्वारा जारी नवीनतम खाद्य सुरक्षा प्रमाण पत्र एवं अधिकारी द्वारा परीक्षित खाद्य सुरक्षा कागजात , नवीनतम आपातकालीन आपदा प्रबंधन एवं तैयार के गई मूल्यांकन  प्लान संबंधी कागजात जिससे कि किसी तरह की आपदा के समय जान व माल की सुरक्षा सुनिश्चित हो सके, मौजूदा नियमानुसार लिस्टों और एलेवेटरों के सुरक्षा ऑडिट  तथा इससे संबधित वैध प्रमाण पत्र की बात कही गई है। अग्निकांड के दौरान सुरक्षा, सतर्कता  एवं बचाव, आपातकालीन निकासी की जानकारी प्रतिमान के सभी कर्मचारियों को दी जाए। इसके अलावा नियमित मोक ड्रील भी संचालित की जानी चाहिए ।