असम में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर के मुद्दे के बाद नागरिकता से गायब हुए लोग दिल्ली में गांधी जयंती पर धरना देंगे. हजारों की तादाद में ऐसे लोग जिन्हें 'संदेहास्पद वोटर्स' के नाम से चिन्हित किया गया है, वे नई दिल्ली में केंद्र सरकार के खिलाफ प्रोटेस्ट करेंगे। 

मिली जानाकारी के मुताबिक 5,000 से अधिक लोग नागरिकता लिस्ट से बाहर होने के बाद बुनियादी अधिकारों से अलग किए जाने के खिलाफ दिल्ली में एकजुट होंगे. रिपोर्ट्स के मुताबकि असम में 1,25,333 लोग असम के वोर्टर्स नहीं है जिन्हें 'डी वोटर्स' के रूप में चिन्हित किया गया है। 

असोसिएशन फॉर प्रोटक्शन ऑफ सिटीजनशिप राइट्स के रूप में एक संगठन बनाया है जिसका उद्देश्य 'डी वोटर्स' को 'दि वोटर्स' में तब्दील करना है।