प्रोटीन हमारे शरीर की मांसपेशियों के लिए एक बेहद जरूरी पोषक तत्व है। प्रोटीन मांसपेशियों के साथ-साथ हमारी त्वचा, एन्जाइम्स और हार्मोन्स का भी बिल्डिंग ब्लॉक होता है। शरीर के सभी ऊतकों के लिए भी ये बेहद जरूरी है। शरीर में प्रोटीन की कमी से कई तरह की शारीरिक दिक्कतें बढ़ती हैं।

एडिमा-
शरीर का जब कोई अंग फूलने लगता है या उसमें सूजन आने लगती है तो मेडिकल भाषा में इसे एडिमा कहा जाता है। वैज्ञानिक कहते हैं कि ये ह्यूमन सीरम एल्बुमिन की कमी से होता है, जो कि ब्लड या ब्लड प्लाज्मा के लिक्विड पार्ट में मौजूद प्रोटीन है। प्रोटीन की कमी पेट की गुहा में फ्लूड की समस्या को भी बढ़ावा दे सकती है। इसलिए ऐसे लक्षणों को नजरअंदाज न करें।

फैटी लिवर-
प्रोटीन की कमी से फैटी लिवर या लिवर की कोशिका में फैट जमा होने की समस्या बढ़ सकती है। यदि शरीर में प्रोटीन की कमी पर ध्यान न दिया जाए तो ये दिक्कत फैटी लिवर डिसीज का रूप ले सकती है। इससे लिवर में सूजन, लिवर में घाव या लिवर फेलियर जैसी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। फैटी लिवर की समस्या आमतौर पर मोटापा ग्रस्त या एल्कोहल का ज्यादा सेवन करने वालों में देखी जाती है।

त्वचा, बाल और नाखून- प्रोटीन की कमी अक्सर त्वचा, बाल और नाखूनों पर अपनी छाप छोड़ जाती है, जिन्हें बनाने में प्रोटीन की बड़ी भूमिका होती है। उदाहरण के लिए, प्रोटीन की कमी वाले रोगियों की त्वचा फटने लगती है। त्वचा पर दाग, धब्बे और लाल निशान पड़ने लगते हैं। बाल पतले होने लगते हैं और झड़ने भी लगते हैं। इसके अलावा, नाखून काफी ज्यादा कमजोर हो जाते हैं।

मांसपेशियों को नुकसान-
मांसपेशियों के लिए प्रोटीन सबसे ज्यादा जरूरी चीज है। जब शरीर में प्रोटीन की सप्लाई कम होने लगती है तो शरीर बॉडी फंक्शन और जरूरी ऊतकों के लिए हड्डियां से प्रोटीन लेने लगता है। प्रोटीन की कमी से हमारी मांसपेशियों को बड़ा नुकसान होता है। खासतौर से बुजुर्गों में ये दिक्कत ज्यादा गंभीर होती है।

हड्डियों का फ्रैक्चर-
प्रोटीन की कमी से अकेले मांसपेशियों के ऊतक प्रभावित नहीं होते हैं, बल्कि हड्डियों के ऊतक पर भी इसका बड़ा बुरा असर पड़ता है। प्रोटीन की कमी हमारी हड्डियां कमजोर पड़ने लगती हैं और उनके टूटने का यानी फ्रैक्चर का जोखिम भी काफी बढ़ जाता है।

बच्चों का शारीरिक विकास- प्रोटीन न सिर्फ हमारी मांसपेशियों और हड्डियों के लिए जरूरी है, बल्कि ये हमारी बॉडी के ग्रोथ के लिए भी बहुत जरूरी है। प्रोटीन की कमी से बच्चों का शारीरिक विकास बाधित हो सकता है। इससे बच्चे कुपोषण का शिकार हो सकती हैं। ऐसी कई स्टडीज सामने आ चुकी हैं जो प्रोटीन और शारीरिक विकास के बीच मजबूत जुड़ाव के बारे में बताती हैं।

इंफेक्शन का खतरा-
हमारे इम्यून सिस्टम पर भी प्रोटीन की कमी का बुरा असर देखा जा सकता है। इम्यून सिस्टम खराब होने से इंफेक्शन के संपर्क में आने का जोखिम भी काफी बढ़ जाता है। डॉक्टर्स कहते हैं कि प्रोटीन की कम मात्रा से भी इम्यून के फंक्शन में दिक्कत आ सकती है। एक स्टडी के मुताबिक, बुजुर्ग लोगों में  लगातार 9 हफ्तों तक प्रोटीन की कमी इम्यूनिटी रिस्पॉन्स पर बुरा असर डालती है।

मोटापे की दिक्कत-
क्या आप जानते हैं भूख लगना भी प्रोटीन की कमी का एक लक्षण है। जब शरीर को कम प्रोटीन मिलता है तो वो आपकी भूख बढ़ाकर प्रोटीन लेने का संकेत देता है। एक्सपर्ट्स कहते हैं कि प्रोटीन की जगह हाई कैलोरी फूड का सेवन मोटापे की समस्या को ट्रिगर कर सकता है। मौजूदा समय में मोटापा अपने आप में एक गंभीर विषय बना हुआ है।

कैसे मिलेगा प्रोटीन-
शरीर में प्रोटीन की कमी को दूर करने के लिए अंडा, दही, दूध, पनीर, चिकन, मसूर की दाल, फलीदार सब्जियां, ब्रोकली, बादाम और ओट्स जैसी चीजों का सेवन कर सकते हैं। इन चीजों से आपके शरीर को पर्याप्त प्रोटीन मिल जाएगा।