उसम के नगांव में वार्ता समर्थक उल्फा गुट के सदस्यों पर हमले का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। वार्ता समर्थक उल्फा गुट के नेताओं ने राज्य सरकार को चेतावनी दी है कि अगर असमिया लोगों की सुरक्षा नहीं की गई तो वे हथियार उठा लेंगे।

वार्ता समर्थक उल्फा गुट के नेता अरोबिंदा राजखोवा ने कहा, अगर राज्य सरकार ने हमारे लोगों की सुरक्षा के लिए उचित कदम नहीं उठाए तो हम दोबारा हथियार उठा लेंगे। यह बयान नगांव कस्बे में सिलापाथर जैसे हालात उत्पन्न होने के बाद आया है। गौरतलब है कि नगांव कस्बे में दो बंगाली बिजनेसमैन ने वार्ता समर्थक उल्फा गुट के सदस्यों की पिटाई कर दी थी। पिटाई करने वालों में से एक भाजपा का स्थानीय नेता है। घटना 22 अगस्त की है।

वार्ता समर्थक उल्फा गुट के सदस्यों की पिटाई के बाद नगांव में तनाव व्याप्त हो गया था। बिजनेसमैन ने आरोप लगाया था कि पूर्व उग्रवादी मून बरुआ जबरन पैसे वसूलने के लिए आया था। पुलिस ने पहले उसे गिरफ्तार कर लिया लेकिन जब घटना का वीडियो वायरल हुआ और जबरदस्त विरोध प्रदर्शन शुरु हुए तो पुलिस ने बरुआ को रिहा कर दिया और बिजनेसमैन व उसके सहयोगी को गिरफ्तार कर लिया। दोनों को उल्फा के वार्ता समर्थक गुट के सदस्यों की पिटाई के आरोप में गिरफ्तार किया गया। कई संगठनों ने घटना के विरोध में प्रदर्शन किए।

उनकी मांग है कि घटना के लिए जिम्मेदार लोगों को तुरंत गिरफ्तार किया जाए। अरोबिंदा राजखोवा ने कहा कि मौजूदा राज्य सरकार असम के इंडिजनस लोगों की सुरक्षा करने में विफल रही है। नगांव की हालिया
घटना ने इसे फिर से साबित किया है। मंगलवार को वार्ता समर्थक उल्फा गुट ने राज्य के इंडिजनस (स्वदेशी) समुदायों को ऐसे और हमलों के खिलाफ एकजुट होने के लिए कहा। वार्ता समर्थक उल्फा नेता अनूप
चेतिया ने रविवार को कहा था, अगर किसी बाहरी ने असम के इंडिजनस लोगों पर हमला किया तो हम सहन नहीं करेंगे। अगर कोई बाहरी सोचता है कि असम उसके लिए या उनके लिए सही नहीं है तो वे या वह
हमारी जमीन छोड़कर जा सकते हैं। हमने उनका राज्य में स्वागत नहीं किया था। अगर कोई आक्रामक हुआ तो हम भी होंगे।

इससे पहले 25 अगस्त को वार्ता समर्थक उल्फा नेताओं ने धमकी दी थी कि अगर राज्य सरकार ने इंडिजनल लोगों की सुरक्षा के लिए उचित कदम नहीं उठाए तो वे दोबारा हथियार उठा लेंगे। नगांव जिले से ही बुधवार को सेना व असम पुलिस ने 9 शक्तिशाली आईईडी,एक गन और बारुद के 6 राउंड बरामद किए थे। ये विस्फोटक सामग्री अबु शाहिद नामक व्यक्ति के घर से मिली थी। अबु शाहिद का घर नगांव जिले के तुकतुकी में स्थित है। विस्फोटक सामग्री की बरामदगी को लेकर अबु शाहिद के साथ साथ बाबुल अली नामक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है। सुरक्षा बलों को बरामदगी से कुछ आतंकी समूहों के संबंध का संदेह है।