बीजापुर। छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले में 13 सालों से सक्रिय नक्सली ने अपनी पत्नी के साथ आज आत्मसमर्पण किया है। पुलिस सूत्रों के अनुसार आत्मसमर्पण करने वाले नक्सली लालू मोडियम उर्फ समीर पर 10 लाख का ईनाम घोषित था। नक्सली लालू मोडियम के आत्मसमर्पण से जिला पुलिस को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। 

ये भी पढ़ेंः भाजपा शासन में संसदीय लोकतंत्र खतरे में : विपक्ष के नेता माणिक सरकार


आत्मसमर्पण के साथ ही उसे 10,000 रुपए की प्रोत्साहन राशि प्रदान की गई। पुलिस के मुताबिक झारखंड रीजनल कमेटी के सदस्य और 10 लाख के इनामी लालू मोडियाम ने पत्नी के साथ बीजापुर पुलिस के समक्ष सरेंडर किया है। बीजापुर जिले के पेद्दा कोरमा का रहने वाला लालू वर्ष 2009 में गंगालूर एरिया कमेटी में पीएलजीए सदस्य के रूप में भर्ती हुआ था। 

ये भी पढ़ेंः खुशखबरीः सरकारी कॉलेजों में सभी छात्राओं को मुफ्त शिक्षा प्रदान करेगी इस राज्य की सरकार

इस नक्सली लालू मोडियम 12 से अधिक बड़ी घटनाओं में शामिल रहा है। करीब 13 सालों के बाद लालू ने नक्सल संगठन छोड़ मुख्यधारा में जुडऩे का फैसला लिया है। उसने संगठन छोडऩे के पीछे प्रेम प्रसंग और ओहदे को लेकर संगठन में भेदभावपूर्ण नीति को जिम्मेदार बताया।