नई दिल्ली। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Bihar Chief Minister Nitish Kumar) ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के चारा घोटाला (Chara scam) मामले में राष्ट्रीय जनता दल (RJD) प्रमुख लालू प्रसाद यादव (Lalu yadav) को दोषी ठहराने की न्यायिक प्रक्रिया को लेकर दिए गए बयान पर आज आश्चर्य व्यक्त किया। कुमार ने शुक्रवार को संवाददाताओं से कहा कि वह यादव को चारा घोटाले में दोषी ठहराए जाने पर प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi Vadra) के बयान को लेकर हैरान हैं। 

उन्होंने कहा कि यह एक न्यायिक प्रक्रिया है और इस पर कोई टिप्पणी करने की जरूरत नहीं है। मुख्यमंत्री ने कहा कि यादव को केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) की विशेष अदालत ने चारा घोटाले के कई मामलों में पहले सजा सुना चुकी है। अदालत ने उन्हें 15 फरवरी को घोटाले के एक और मामले में दोषी ठहराया है। उन्होंने कहा कि ऐसे मामले पर क्या कहा जा सकता है। 

कुमार ने राजद अध्यक्ष द्वारा जेल नियमावली के उल्लंघन के बारे में पूछे जाने पर अनभिज्ञता व्यक्त की। उन्होंने चुनाव प्रचार के लिए उत्तर प्रदेश जाने के संबंध में पूछे जाने पर कहा कि जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के नेता और कार्यकर्ता उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में पार्टी उम्मीदवारों के लिए प्रचार में लगे हुए हैं। उल्लेखनीय है कि अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) की महासचिव प्रियंका गांधी ने आरोप लगाया था कि लालू प्रसाद यादव को राजनीतिक बदले की भावना से भारतीय जनता पार्टी (BJP) परेशान कर रही है।

मुख्यमंत्री ने एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग बहुत पहले केंद्र सरकार के समक्ष रखी गई थी। बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने की मांग को लेकर कई अभियान चलाए गए हैं। उन्होंने कहा कि नीति आयोग ने अपनी रिपोर्ट में इस बात का संकेत दिया है कि बिहार विभिन्न विकास मानकों पर सभी राज्यों में सबसे नीचे है। इस परिदृश्य में बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग पर विचार करना और भी महत्वपूर्ण हो गया है।