देश के पांच राज्यों के चुनाव में हार के बाद से कांग्रेस में कलह चल रही है। इसी के साथ ही अब केरल ने यह कलह और बढ़ा दी हैं। राज्य की एकमात्र राज्यसभा सीट पर कांग्रेस जीतने की स्थिति में है और उसके लिए हाईकमान ने पार्टी के सचिव श्रीनिवासन कृष्णन को नॉमिनेट किया है। इसे लेकर स्टेट यूनिट में बवाल मच गया है। 

यह भी पढ़ें :  दी कश्मीर फाइल्स फिल्म के खिलाफ उतरा ये दबंग मुस्लिम नेता, कर दिया इतना बड़ा ऐलान

हालांकि, प्रदेश यूनिट के नेता इससे खफा हैं और उनकी ओर से लीडरशिप को कहा गया है कि वे इसे स्वीकार नहीं करेंगे। स्टेट यूनिट की ओर से कहा गया है कि उनकी ओर से भेजे गए प्रस्ताव को महत्व दिया जाना चाहिए था। प्रदेश अध्यक्ष के. सुधाकरण ने पार्टी लीडरशिप से कहा है कि उनकी इच्छा है कि किसी युवा नेता को मौका मिले। 

खबर है कि कांग्रेस स्टेट यूनिट की ओर से एम. लिजू का नाम सुझाया गया था, जो यूथ कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष थे। फिलहाल उनके पास अलपुझा जिले के जिलाध्यक्ष की जिम्मेदारी है। सुधाकरण ने कहा कि हाईकमान की ओर से शुक्रवार को यह फैसला लिया गया था। इस फैसले के खिलाफ के सुधाकरण की राय का राज्य के कई और नेता भी समर्थन कर रहे हैं। 

यह भी पढ़ें :  हिमंत बिस्वा सरमा का बड़ा बयान! असम में सबसे ज्यादा है मुसलमान, अब वे अल्पसंख्यक नहीं

बीते सप्ताह ही राज्यसभा सीट पर दावे के लिए सीनियर लीडर केवी थॉमस ने भी सोनिया गांधी से मुलाकात की थी। लेकिन स्टेट यूनिट का कहना था कि किसी युवा नेता को मौका मिलना चाहिए।