कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की संसद के अगले सप्ताह से शुरू होने वाले शीतकालीन सत्र की रणनीति को लेकर गुरुवार शाम को बैठक हुई जिसमें महंगाई, किसानों तथा बेरोजगारी के साथ ही चीन सीमा पर तनाव जैसे विभिन्न मुद्दों पर विपक्ष को साथ लेकर चलने की रणनीति पर विचार हुआ। 

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरू हो रहा है कांग्रेस विपक्ष को साथ काम करने की रणनीति पर विचार कर रही है लेकिन दूसरी तरफ कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस जैसे प्रमुख विपक्षी दलों के बीच टकराव शुरू हो गया है और ऐसे में कांग्रेस के लिए विपक्ष को साधने की इस सत्र में बड़ी चुनौती होगी। 

गांधी के आवास पर आज आयोजित इस बैठक में राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खडग़े, लोक सभा में पार्टी के नेता अधीर रंजन चौधरी, वरिष्ठ नेता ए के एंटनी, संगठन महासचिव के सी वेणुगोपाल, के सुरेश, रवनीत ङ्क्षसह बिट्टू और आनंद शर्मा सहित कई प्रमुख नेताओं ने हिस्सा लिया। बैठक के बाद श्री खडग़े ने कहा कि पहले दिन किसानों के मुद्दे तथा न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) का मामला उठाया जाएगा। 

उनका कहना था कि सरकार ने अब तक लखीमपुर खीरी में किसानों को कुचलने के आरोप में गिरफ्तार आरोपी के पिता तथा केंद्रीय मंत्री को अभी मंत्रिमंडल से हटाया नहीं है। इसी तरह से महंगाई बड़ा मुद्दा है जिस पर सरकार को विपक्ष के सवालों का जवाब देना होगा।