त्रिपुरा में विधानसभा चुनाव की घोषणा के बाद हुई हिंसा में नौ लोग घायल हो गए। घटना त्रिपुरा के धर्मनगर और बेलोनिया की है, जहां माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी और भाजपा के समर्थकों के बीच झड़प हो गई। जानकारी के अनुसार माकपा कार्यकर्ताओं ने उत्तरी त्रिपुरा के धर्मनगर के सनिचेरा में जनसभा पर हमला किया, जिसमें तीन लोग घायल हो गए। घायलों में भाजपा कार्यकर्ता राणा सिन्हा की स्थिति गंभीर है।


माकपा कार्यकर्ताओं ने धर्मनगर के चंद्रापुर की सुभाष पाली के कानू मलिक को उसके घर से बुलाकर पीटा। आरोपियों के खिलाफ  प्राथमिकी दर्ज की गई है, लेकिन अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। वहीं दक्षिण त्रिपुरा के बेलोनिया के हरिष्यामुख भाजपा की संकल्प रैली में माकपा कार्यकर्ताओं ने हमला कर दिया। बेलोनिया के चंपकनगर में भी ऐसी घटना घटी। इन घटनाओं में पांच भाजपा कार्यकर्ता घायल हो गए।

 
एक अन्य घटना में गुरुवार रात अगरतला में मोहनपुर गांव में लोगों ने गुस्से में आकर दो पुलिस अधिकारियों को पकड़ लिया। ग्रामीणों का आरोप है कि ये सत्तारूढ़ वाम मोर्चा सरकार के पक्ष में काम कर रहे हैं। वरिष्ठ पुलिस अधिकारी इन पुलिसकर्मियों के खिलाफ  कार्रवाई करने का आश्वासन देने के बाद देर रात ग्रामीणों के कब्जे से इन्हें छुड़ाने में कामयाब रहे।


वहीं मुख्य चुनाव अधिकारी श्रीराम तरनिकांत ने पुलिस और अन्य सरकारी अधिकारियों को चेतावनी देते हुए कहा है कि वे पूरी तटस्थता और कानून के अनुसार अपने कर्तव्यों का निर्वाह करें। उन्होंने कहा कि अगर कोई अधिकारी गैर कानूनी गतिविधियों और कर्तव्य में लापरवाही बरतता पाया गया तो चुनाव आयोग उसके खिलाफ  कड़ी कार्रवाई करेगा।