महाराष्ट्र में फ्री कोरोना वैक्सीन के ऐलान के बाद सरकार के अंदर ही घमासान शुरू हो गया है। फ्री वैक्सीन का क्रेडिट लेने के लिए सरकार के सहयोगी दल आपस में खींचतान कर रहे हैं। इसको लेकर कांग्रेस खफा है और कह रही है कि यह सभी दलों के सुझाव पर लिया गया फैसला है। इसमें किसी एक दल का कोई खास रोल नहीं है।

महाराष्ट्र में फ्री वैक्सीन का श्रेय लेने वाले राजनीतिक दल के नेताओं से कांग्रेस के कैबिनेट मंत्री बालासाहेब थोराट खुश नहीं हैं। थोराट ने कहा कि कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने स्पष्ट रूप से कहा है कि सभी नागरिकों को मुफ्त टीका मिलना चाहिए, कांग्रेस का स्टैंड महाराष्ट्र में साफ है, सभी को फ्री में वैक्सीन मिलनी चाहिए।

हालांकि व्यक्तिगत और पार्टी क्रेडिट के लिए कुछ लोग निर्णय की घोषणा कर रहे हैं, इससे पहले कि सीएम घोषणा करें, यह बिल्कुल सही नहीं है। सीएम से हमारी चर्चा हुईण् सीएम को मुफ्त टीकों के बारे में घोषणा करनी चाहिए। कुछ लोग व्यक्तिगत और राजनीतिक श्रेय लेने की कोशिश कर रहे हैं।

गौरतलब है कि महाराष्ट्र सरकार ने ऐलान किया है कि सूबे में 18 से 45 साल के लोगों को मुफ्त में कोरोना वैक्सीन की डोज दी जाएगीण् महाराष्ट्र सरकार में कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक ने इस बात का ऐलान किया था। उन्होंने कहा कि राज्य में 18 साल से 45 साल के लोगों को कोरोना की वैक्सीन मुफ्त में लगाई जाएगी।

नवाब मलिक ने कहा कि हमने कैबिनेट में इस बात की चर्चा की है कि 18 से 45 साल के लोगों को मुफ्त में वैक्सीन दी जाएगी। हम ग्लोबल टेंडर्स को आमंत्रित करेंगे और न्यूनतम दाम पर उचित वैक्सीन लेंगे। हम 14 से 15 करोड़ वैक्सीन लेंगे और महाराष्ट्र के लोगों को मुफ्त में वैक्सीन देंगे।