राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने शुक्रवार को एनसीपी प्रमुख शरद पवार से उनके आवास पर मुलाकात की। दोनों के बीच करीब तीन घंटे तक चली बातचीत के बाद महाराष्ट्र में सियासी अटकलें तेज हो गई हैं। 

उद्धव ठाकरे की दिल्ली में पीएम मोदी के साथ अकेले में हुई मुलाकात के बाद कयासबाजी का दौर शुरू हो गया तो एक दिन पहले ही शिवसेना नेता संजय राउत ने पीएम मोदी की तारीफ करते हुए उन्हें देश का टॉप नेता बताया है।

एनसीपी के सूत्रों ने कहा कि राजनीतिक स्थितियों पर चर्चा के अलावा पवार ने किशोर के लिए लंच का आयोजन किया। पीके और पवार के बीच बैठक दोपहर करीब 2 बजे खत्म हुई। हालांकि, इसके बाद ना तो पवार ने और ना ही पीके ने मीडियाकर्मियों से कोई बात की।  

हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनावों में डीएमके और टीएमसी को तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल में मिली जीत के बाद पीके की पवार के साथ यह पहली मुलाकात है। इन पार्टियों के लिए पीके ने ही रणनीतियां बनाई थीं और जीत में इनका योगदान अहम माना जा रहा है। हालांकि, बंगाल चुनाव के बाद पीके ने कहा था कि वह चुनवी रणनीतिकार का काम छोड़ रहे हैं। 

महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने इस बैठक को लेकर अटकलों पर विराम लगाने की कोशिश करते हुए कहा कि किशोर पहले ही कह चुके हैं कि वह आगे रणनीतिकार का काम नहीं करेंगे। शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि कई नेता किशोर के साथ संपर्क में है, जबकि एनसीपी के छगन भुजबल ने कहा कि उन्हें इस बैठक के अजेंडे के बारे में कोई जानकारी नहीं है। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि पीके एक सफल रणनीतिकार हैं और निश्चित तौर पर पवार उनकी सलाह पर विचार करेंगे। उद्धव ठाकरे के मुख्यमंत्री बनने से पहले भी 2019 में पीके ने उनसे मुलाकात की थी।