महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात ने राजनीतिक गलियारों में हलचल तेज कर दी है।  इस बीच केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले के एक बयान ने पिछले कई दिनों से चल रही सियासी चर्चाओं को और हवा दे दी है।  

दरअसल रामदास अठावले ने कहा कि महाराष्ट्र में पूर्व सहयोगी भाजपा और शिवसेना समेत अन्य दल मिलकर एक बार फिर सरकार बना सकते हैं।  उन्होंने कहा कि इस गठबंधन के बाद मुख्यमंत्री पद को आधे- आधे कार्यकाल के लिए शिवसेना के साथ बांटा जा सकता है। 

केंद्रीय मंत्री ने बताया कि इस मुद्दे पर भाजपा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के साथ उनकी बातचीत हो चुकी है और बहुत जल्द वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने में इस प्रस्ताव पर चर्चा करेंगे।  रामदास अठावले का ये बयान ऐसे समय में आया है जब महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे कुछ दिन पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने दिल्ली आए थे। 

 

गौरतलब है कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मुलाकात की थी।  पीएम मोदी से मिलने के बाद उद्धव ठाकरे ने कहा कि पीएम ने हमारी सभी बातों को गंभीरता से सुना।  उन्होंने बताया कि उनकी मुलाकात मराठा आरक्षण, जीएसटी समेत कई संवेदनशील मुद्दों पर हुई थी। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात के बाद उद्धव ठाकरे ने साफतौर पर कहा कि यह मुलाकात निजी थी, यह कोई राजनीतिक मुलाकात नहीं थी।  उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि पीएम मोदी के साथ उनके अच्छे संबंध हैं।  उन्होंने कहा कि हम भले ही राजनीतिक रूप से साथ में नहीं हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हमारे संबंध टूट गए हैं।  मैं कोई नवाज शरीफ से मिलने नहीं गया था। अगर मैं पीएम से निजी तौर पर मिलता हूं तो इसमें कुछ गलत नहीं है।