उत्तर प्रदेश के पीलीभीत​ जिले से दुल्हन लेने उत्तराखंड जा रहे दूल्हे को बॉर्डर पर पुलिस ने रोक लिया। पुलिस ने जांच पड़ताल करने के बाद दूल्हा सहित पूरी बारात को राज्य में एंट्री देने से मना कर दिया। जब इस बात की जानकारी लड़की पक्ष को हुई, तो वे बॉर्डर पर पहुंच गए। पुलिस ने जब उन्हें मामला समझाया, तो वे भी शांत रह गए। 

पुलिस ने अब 14 दिन बार फिर से बारात लाने के लिए कहा है। पीलीभीत शहर से सटे गांव चंदोई से बारात उत्तराखंड के खटीमा जा रही थी। बताया गया है कि बारात अपने तय समय पर गंतव्य की ओर रवाना हो गई। इस बारात में 40 से 45 लोग शामिल थे। बा​रातियों द्वारा कोरोना गाइडलाइन का पालन भी किया जा रहा था, लेकिन उत्तराखंड बॉर्डर पर पहुंचते ही पुलिस ने बारात को रोक लिया। यूपी-उत्तराखंड सीमा पर तैनात स्वास्थ्य विभाग की टीम ने जांच पड़ताल शुरू कर दी। सबसे पहले दूल्हे का कोरोना टेस्ट किया गया। दूल्हे की रिपोर्ट जब सामने आई, तो सभी हैरान रह गए। यहां बारात तो छोड़िये दूल्हा ही कोरोना पॉजिटिव निकला। यह रिपोर्ट देख अन्य बाराती सन्न रह गए। 

दूल्हे के साथ कार में सवार अन्य बारातियों को जब इस बात की जानकारी हुई, तो उनके भी पसीने छूट गए। ज्यादातर लोग तो कोरोना का नाम सुनकर ही वहां से पीछे हट गए। इसके बाद पुलिस ने दूल्हे को वापस लौट जाने को कहा और ये भी कहा कि 14 दिन के बाद जब रिपोर्ट निगेटिव आएगी, तभी उत्तराखंड में एंट्री मिलेगी। उधर बारात का बेसब्री से इंतजार कर रहे दुल्हन पक्ष को जब इस बात की जानकारी हुई, कि बारात को बॉर्डर पर रोक लिया गया है, तो वे भी मौके पर पहुंच गए। हालांकि सच्चाई जानने के बाद वे भी शांति से वहां से वापस लौट आए।  वहीं दूल्हा के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद बारातियों में टेंशन है। बताया जा रहा है कि स्वास्थ्य विभाग की टीम को इस बात की सूचना बॉर्डर से दे दी गई। अब सभी बारातियों की कोरोना जांच की जाएगी।