कुछ दिन पहले उत्तराखंड में रोहिंग्या की घुसपैठ को लेकर खुफिया विभाग ने इनपुट दिया था। इस वजह से उत्तराखंड में पुलिस ने वैरिफिकेशन अभियान चलाया हुआ है। खबर है कि पुलिस का ये अभियान फिलहाल 10 दिन तक चलेगा। नैनीताल में 21 मार्च को तल्लीताल इलाके में पश्चिम बंगाल के 3 संदिग्ध परिवार मिले। खास बात ये है कि इन लोगों का मकान मालिकों द्वारा वैरिफिकेशन भी नहीं करवाया गया था। पुलिस ने इन परिवारों की जांच शुरू कर दी है। बिना वैरिफिकेशन किराएदार रखने पर मकान मालिकों के खिलाफ 10-10 हजार रूपए का चालान किया जा रहा है।

ये भी पढ़ेंः कर्नाटक PUC परीक्षा में हिजाब पहनकर बैठने से रोका, बिना परीक्षा दिए लौटे छात्र


नैनीताल में सीओ संदीप नेगी के नेतृत्व में सत्यापन अभियान चलाया गया। तल्लीताल पुलिस ने हरीनगर बूचडख़ाना इलाके में जब वैरिफिकेशन अभियान चलाया तो पश्चिम बंगाल के 3 परिवार बिना वैरिफिकेशन के मिले। मकान मालिक अब्दुल वहाब और मोहम्मद असगर का 10-10 रूपए हजार का चालान काटा गया है। अल्मोड़ा में बाहरी लोगों के वैरिफिकेशन को लेकर अभियान तेज कर दिया गया है। यहां बिना सत्यापन के रह रहे बाहर के 8 लोगों का पुलिस ने चालान काटा। फेरी लगाने वाले बाहरी व्यक्ति मुजाहिद और नवाब यहां बिना सत्यापन के रह रहे थे।

ये भी पढ़ेंः सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक को दिया तगड़ा झटका, अभी जेल में ही रहना होगा


उधर भतरौंजखान में नसीम मंसूरी, सोनू सैनी और जावेद के विरुद्ध कार्रवाई करते हुए जुर्माना वसूला गया है। आपको बता दें कि खुफिया विभाग ने उत्तराखंड में रोहिंग्या की घुसपैठ का इनपुट दिया था। इनपुट में ये भी था कि नेपाल सीमा पर भारी मात्रा में गैर समुदाय के लोगों को योजना के तहत बसाए जाने से डेमोग्राफिक बदलाव भी आ गया है। ऐसे में उत्तराखंड पुलिस अलर्ट पर है।