उत्तर प्रदेश के गाज़ीपुर में हैरान कर देने वाली घटना सामने आई है। यह घटना दिलदारनगर थाना क्षेत्र के उसिया गांव की है। यहां के पुलिस के हेड कांस्टेबल ने अपनी पत्नी की धारदार हथियार से गला काटकर हत्या कर दी और कांस्टेबल ने अपने 5 बच्चों पर भी जानलेवा हमला किया है और इसके बाद हेड कांस्टेबिल ने खुद ट्रेन से कटकर आत्महत्या कर ली। 

कांस्टेबल के हमले में 3 बच्चे गम्भीर रूप से घायल हैं, जिन्हें इलाज के लिए वाराणसी ट्रामा सेंटर भेज गया है। मुंशी यादव पुलिस विभाग में हेड कांस्टेबिल थे और वर्तमान में फतेहपुर जिले में तैनात था। कांस्टेबल मुंशी यादव जनवरी में छुट्टियां लेकर घर आया था, तब से वापस ड्यूटी ज्वाइन नहीं की थी। बताया जा रहा है कि हेड कांस्टेबिल को चर्म रोग था। 

 

चर्म रोग बीमारी के चलते सिपाही सीरियस डिप्रेशन में चल रहा था। डिप्रेशन के चलते कांस्टेबिल ने दिल दहला देने वाली घटना को अंजाम दिया हैं। गाजीपुर के एसपी ओ.पी. सिंह ने बताया कि हेड कांस्टेबल मुंशी यादव ने धारदार हथियार से अपनी पत्नी रीना की गला काटा और उसके बाद उसने अपने 5 बच्चों पर भी जानलेवा हमला किया। फिर गांव से बाहर रेलवे ट्रैक पर गुजर रही ट्रेन के आगे कूद गया।