कोयला सिंडिकेट और कोयला बिलों के फर्जीवाड़े के खिलाफ पुलिस की मुहिम रंग लाने लगी है। कोयला सिंडिकेट और बिलों के फर्जीवाड़े के खिलाफ महानगर पुलिस की ओर से कार्रवाई जारी है। पिछले दिनों बेलतला से ट्रांसपोर्ट शुभम जैन की हुई गिरफ्तारी के बाद पुलिस द्वारा रिमांड में लेकर उससे की गई पूछताछ में कई महत्वपूर्ण खुलासे हुए।

आरोपी शुभम से मिली जानकारी के बाद खेत्री पुलिस ने अभियान चलाकर इस मामले में और तीन लोगों को गिरफ्तार किया, जिसमें दो कोयला माफिया व एक ट्रक चालक है। विशेष सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बीती देर रात करीब 3.30 बजे पुलिस ने खेत्री तिनाली के पास एक ट्रक कोयले से लदा पाया गया। चालक को जब कागजात दिखाने को कहा गया तो वह फर्जी पाया गया और पूछताछ में उसने दीपक अग्रवाल नामक व्यक्ति के नाम का खुलासा किया।

चालक से मिली जानकारी के बाद खेत्री पुलिस की टीम अगले दिन बेलतला के तारा हाउसिंग कांप्लेक्स पंहुच गई। वहां से पुलिस ने दीपक अग्रवाल को गिरफ्तार किया। पुलिस का कहना है कि आरोपी कोयले के फर्जी जीएसटी चालान बनाकर कोयले से लदे ट्रक को राज्य के बाहर भेजने का प्रयास कर रहा था। 

पुलिस ने इस संदर्भ में खेत्री थाने में मामला दर्ज कर दीपक अग्रवाल सहित दो अन्य लोगों को गिरफ्तार किया। उल्लेखनीय है कि पुलिस की तमाम कारवाई के बावजूद बेलतला में फर्जी बिल व चालान का कारोबार धड़ल्ले से जारी है। हालांकि पुलिस की ताजा कारवाई से बिलों का फर्जीवाड़ा करने वालों में हड़कंप मच गया है।