त्रिपुरा में विधानसभा चुनाव में पिछले 24 घंटों में त्रिपुरा के अलग-अलग हिस्सों में हिंसा फ़ैलाने के आरोप में चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है।  विपक्षी पार्टी भाजपा ने आरोप लगाया कि शुक्रवार की रात से सीपीएम के कार्यकर्ता बीजेपी के नेता और उम्मीदवारों पर लगातार हमला कर रहे हैं।


शनिवार शाम को मुख्य चुनावी अधिकारी श्रीराम तारानिकांती ने बताया कि रविवार को शांतिपूर्ण और निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित करने के लिए विस्तृत सुरक्षा उपाय किए गए हैं। पुलिस महानिरीक्षक (कानून और व्यवस्था) के.वी. श्रीजेश ने बताया की अब तक राज्य में दो बड़ी हिंसा की घटनाएं सामने आई हैं।

जिसमें एक घटना 35 किमी दूर सिपाहीजला जिले के गोलाघाटी की है जहां पत्थरों और ईंटों के साथ उम्मीदवार के काफिले पर हमला हुआ है इसके साथ ही 50 किमी दूर खौई जिले के चाकमाघाट में एक और उम्मीदवार पर हमला हुआ है।


श्रीजेश ने कहा, "उम्मीदवारों पर किसी भी तरह का हमला नहीं किया गया है हालांकि, पुलिस ने हिंसा फैलाने के आरोप में तीन व्यक्तियों को गिरफ्तार किया है," श्रीजेश ने कहा कि शनिवार शाम को अगरतला में कोललेगेटला में पोस्टर लगाने के दौरान सीपीएम और भाजपा समर्थकों के बीच झड़प के मामले में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया था।


इससे पहले शनिवार को भाजपा प्रवक्ता अशोक सिन्हा ने आरोप लगाया था कि निर्वाचन क्षेत्रों में कम से कम 15 स्थानों पर पार्टी कार्यकर्ताओं पर हमला किया गया था। इन आरोपों में गोलाघाटी में एक उम्मीदवार का अपहरण करने और शुक्रवार रात से 45 किमी दूर गोमती जिले के बागमा में भाजपा समर्थक की हत्या का प्रयास शामिल है।

हलांकि सीपीएम के प्रवक्ता गौतम दास ने इन आरोपों से इंकार कर दिया है उन्होंने कहा कि भाजपा के आरोप निराधार हैं, आपको बता दें कि  आज त्रिपुरा में 59 सीटों पर वोटिंग चल रही है और नतीजे 3 मार्च को आएंगे ।