प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने एक छोटी पॉल नौका में समुद्र के रास्ते दुनिया का चक्कर लगाने वाली नौसेना की छह जांबाज अधिकारियों की सराहना करते हुए कहा कि उन्होंने समुद्र की गहराइयों में राष्ट्रध्वज फहराकर उसके जल को तिरंगे के रंग में रंग दिया। मोदी ने 72 वें स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्र के नाम अपने संबोधन की शुरूआत समुद्र के रास्ते दुनिया का चक्कर लगाने के साहसिक अभियान पर निकली नौसेना की महिला अधिकारियों के दल को बधाई देकर की। 

उन्होंने कहा कि देश आजादी का यह पर्व ऐसे समय में मना रहा है जब नौसेना की महिला अधिकारियों की दल सात समुद्रों को पार करने के साहसिक अभियान को सफलतापूर्वक पूरा कर लौट आयी हैं। प्रधानमंत्री ने कहा , हम आजादी का यह पर्व ऐसे समय मना रहे हैं जब उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, मणिपुर, तेलंगाना और आन्ध्र प्रदेश की हमारी बेटियों ने सात समुद्र पार कर सातों समुद्रों को तिरंगे के रंग में रंग दिया। ये बेटियां हमारे बीच लौट आयी हैं।

साथ ही उन्होंने दूर दराज के क्षेत्रों में रहने वाले आदिवासी बच्चों द्वारा एवरेस्ट को फतह करने का भी उल्लेख किया। उन्होंने कहा ,हमारे नन्हें मुन्ने आदिवासियों ने एवरेस्ट पर तिरंगा फहराकर उसकी शान बढायी है।उल्लेखनीय है कि ल़े कमांडर वर्तिका जोशी के नेतृत्व में नौसेना की छह अधिकारियों ने देश में ही बनी पॉल नौका आईएनएस तारिणी में गत 10 सितम्बर को समुद्र के रास्ते दुनिया का चक्कर लगाने का अभियान शुरू किया था। इस दल की अन्य सदस्यों में ले. कमांडर प्रतिभा जामवाल, ले. कमांडर स्वाति पी, लेफ्टिनेंट एश्वर्य बोडापति, लेफ्टिनेंट एस विजया देवी और लेफ्टिनेंट पायल गुप्ता शामिल थी। यह दल 254 दिन की साहसिक यात्रा पूरी कर गत 21 मई को स्वदेश लौटा था।