अब आप बिना किसी झंझट के अपना रोजगार लगाने के लिए केंद्र सरकार से 10 लाख रूपये तक ले सकते हैं। भारत में युवाओं के बीच स्वरोजगार की परंपरा बढ़ाने के लिए साल 2015 में प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (PM Mudra Yojana) की शुरुआत की गई थी। इसके तहत तहत गांवों में गैर-कॉर्पोरेट, गैर-कृषि छोटे / छोटे उद्यमों को 10 लाख रुपये तक का लोन दिया जा रहा है।

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (PM Mudra Yojana) के तहत को 50,000 रुपये से लेकर 10 लाख रुपये तक के ऋण आसानी से और बहुत सस्ती ब्याज दरों पर दिए जाते हैं। ऐसे में अगर आप इस कर्ज को समय पर चुकाते रहते हैं तो इस पर लगने वाली ब्याज दर भी माफ कर दी जाती है। इस योजना के माध्यम से सरकार युवाओं के बीच स्वरोजगार की परंपरा बढ़ाने पर काम कर रही है।

इस योजना को तीन श्रेणियों में बांटा गया है-
- पीएम मुद्रा शिशु ऋण
- पीएम मुद्रा किशोर योजना
- पीएम मुद्रा तरुण योजना

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत वित्त वर्ष 2021-22 में अब तक 1,23,425.40 करोड़ रुपये तक का कर्ज दिया जा चुका है। शिशु मुद्रा ऋण योजना के तहत दुकान खोलने, रेहड़ी-पटरी पर व्यापार करने जैसे छोटे-मोटे कामों के लिए किसी व्यक्ति को 50 हजार रुपये तक का कर्ज देने की व्यवस्था की गई है।

पीएम शिशु मुद्रा ऋण योजना के तहत ऋण के लिए आवेदन करने के लिए किसी गारंटर की आवश्यकता नहीं है। न ही कोई फाइलिंग चार्ज देना है। अलग-अलग बैंकों में इसकी ब्याज दरें अलग-अलग हो सकती हैं। यह बैंकों पर निर्भर करता है। इस योजना के तहत 9 से 12 प्रतिशत प्रतिवर्ष की ब्याज दर है।

मुद्रा लोन लेने के लिए आपको अपने नजदीकी बैंक में जाना होगा। कुछ बैंकों ने तो अपने ग्राहकों के लिए ऑनलाइन सुविधाएं भी मुहैया कराई हैं। ऋण और मुद्रा योजना के बारे में अधिक जानकारी https://www.mudra.org.in/ पर भी विजिट किया जा सकता है।