प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने शुक्रवार को विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए कहा कि जो पार्टियां अपना लोकतांत्रिक चरित्र खो चुकी हैं, वे लोकतंत्र की रक्षा कैसे कर सकती हैं। प्रधानमंत्री मोदी संसद के सेंट्रल हॉल में संविधान दिवस समारोह (Constitution Day Celebrations) में बोल रहे थे, जिसका कांग्रेस समेत 14 विपक्षी दलों ने बहिष्कार किया है। देश एक संकट की ओर बढ़ रहा है, इस ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा, परिवार आधारित दलों के रूप में भारत एक तरह के संकट की ओर बढ़ रहा है, जो संविधान के प्रति समर्पित लोगों के लिए और लोकतंत्र में विश्वास रखने वालों के लिए चिंता का विषय है।

प्रधानमंत्री (PM Modi) ने कहा, एक परिवार के एक से अधिक व्यक्ति योग्यता के आधार पर पार्टी में शामिल होने से पार्टी को वंशवादी नहीं बनाते हैं। समस्या तब उत्पन्न होती है जब एक ही परिवार, पीढ़ी दर पीढ़ी पार्टी चलाई जाती है। प्रधानमंत्री (PM Modi) ने अफसोस जताया कि संविधान की भावना को भी चोट पहुंची है, संविधान के हर वर्ग को भी चोट पहुंची है, जब राजनीतिक दल अपना लोकतांत्रिक चरित्र खो देते हैं। उन्होंने कहा, जो पार्टियां अपना लोकतांत्रिक चरित्र खो चुकी हैं, वे लोकतंत्र की रक्षा कैसे कर सकती हैं।

प्रधानमंत्री (PM Modi) ने दोषी भ्रष्ट लोगों को भूलने और उनका महिमामंडन करने की प्रवृत्ति के खिलाफ भी चेतावनी दी। उन्होंने कहा, सुधार का अवसर देते हुए हमें सार्वजनिक जीवन में ऐसे लोगों का महिमामंडन करने से बचना चाहिए। प्रधानमंत्री ने बाबासाहेब अंबेडकर (babasaheb ambedkar), डॉ. राजेंद्र प्रसाद, महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) जैसी दूरदर्शी महान हस्तियों और स्वतंत्रता संग्राम के दौरान बलिदान देने वाले सभी लोगों को भी श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा कि आज इस सदन को सलामी देने का दिन है, ऐसे ही दिग्गजों के नेतृत्व में काफी मंथन और विचार-विमर्श के बाद हमारे संविधान का अमृत निकला है। प्रधानमंत्री ने 26/11 के शहीदों को भी नमन किया। उन्होंने कहा, आज 26/11 हमारे लिए ऐसा दुखद दिन है, जब देश के दुश्मनों ने देश के अंदर आकर मुंबई में आतंकी (mumbai attack 26/11) हमले को अंजाम दिया। देश के वीर जवानों ने आतंकियों से लड़ते हुए अपने प्राणों की आहुति दी। आज मैं उनके बलिदान पर नमन करता हूं। 

प्रधानमंत्री ने कहा कि संविधान दिवस भी मनाया जाना चाहिए क्योंकि हमारे मार्ग का लगातार मूल्यांकन होना चाहिए कि यह सही है या नहीं। पीएम ने कहा, महात्मा गांधी ने स्वतंत्रता आंदोलन में अधिकारों के लिए लड़ते हुए भी राष्ट्र को कर्तव्यों के लिए तैयार रहने की कोशिश की थी। बेहतर होता कि देश की आजादी के बाद कर्तव्य पर जोर दिया जाता। ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ में यह कर्तव्य के पथ पर आगे बढऩा हमारे लिए आवश्यक है ताकि हमारे अधिकारों की रक्षा हो सके।’’