प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्य सभा में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण के बाद कहा कि केंद्र के नए कृषि कानूनों और किसान आंदोलन की आड़ में विपक्ष राजनीति कर रहे है।  मोदी ने बिना नाम लिए साफ-साफ कहा है कि कुछ लोग नए कृषि कानूनों पर भ्रम फैलाने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन किसानों की हर शंका का समाधान किया जाएगा। इसी के साथ  मोदी ने किसानों को कहा कि 'MSP को कोई खत्म नहीं कर सकता है,यह  MSP था, MSP है और MSP रहेगा।'


राष्ट्रपति के अभिभाषण के दौरान हुए हंगामे पर मोदी ने हंगामा करते हुए नेता से कहा कि राष्ट्रपति जी के भाषण की ताकत इतनी थी कि न सुनने के बाद भी बात पहुंच गई और कहा कि भारत देश का लोकतंत्र ऐसा नहीं है कि कोई भी इसकी खाल उधेड़ सके। पीएम मोदी ने सभा में कहा कि पूरा विश्व कई चुनौतियों से जूझ रहा है। पूरे विश्व पटल और भारत के युवा मन को देखते हैं तो ऐसा लगता है कि आज अनेक अवसर हमारा इंतजार कर रहे हैं।


कोरोना के दौर में एक देश दूसरे देश को, एक प्रदेश दूसरे प्रदेश को, एक परिवार दूसरे परिवार की मदद नहीं कर पा रहा था। उस वक्त करोड़ों लोगों की मौत के बाद इसे कैसे डील कर सकते हैं, ये भी पता नहीं था। लेकिन देश के काबिल विद्वानों ने हल खोजा और हमें रास्ते दिखाया साथ ही लाखों लोगों की बचाई। मोदी ने आगे कहा कि दुनिया इसकी दाद दे रही है। पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना वॉरियर्स, जिन्होंने कठिन समय में जिम्मेदारी निभाई, उनका आदर करना चाहिए।