नागरिकता कानून और एनआरसी को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा है कि पूर्व पीएम मनमोहन सिंह और ममता बनर्जी समेत कई नेताओं ने पहले इसके पक्ष में बोला था। पीएम मोदी ने कहा कि पहले मनमोहन, ममता और सीपीएम के प्रकाश करात जैसे नेताओं ने पक्ष में राय दी थी।

नागरिकता कानून पर विपक्ष के विरोध प्रदर्शनों पर निशाना साधते हुए पीएम मोदी ने कहा कि वोट बैंक की राजनीति करने वाले और खुद को भारत का भाग्य विधाता मानने वाले आज जब देश की जनता द्वारा नकार दिए गए हैं तो इन्होंने अपना पुराना हथियार निकाल लिया है, बांटो, भेद करो और राजनीति का उल्लू सीधा करो। उन्होंने रामलीला मैदान में आयोजित भाजपा की धन्यवाद रैली में अपने संबोधन की शुरुआत ही विविधता में एकता, भारत की विशेषता के नारे लगवाकर की।


ममता ने साधा पीएम पर निशाना

इस बीच ममता बनर्जी ने भी पीएम मोदी की टिप्पणी पर पलटवार किया है। बनर्जी ने कहा कि मैंने जो कहा वह भी पब्लिक फोरम में है और आपने जो कहा है, वह भी जनता के सामने है। पश्चिम बंगाल की सीएम ने नागरिकता कानून और एनआरसी पर पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह के बयानों में अंतर को लेकर भी निशाना साधा। ममता ने कहा कि पीएम मोदी सार्वजनिक तौर पर गृहमंत्री शाह के बयान को खारिज कर रहे हैं। आखिर कौन भारत के मूल विचार को विभाजित करने का काम कर रहा है। जनता यह तय करेगी कि कौन सही है और कौन गलत है।


मोदी बोले...इतना क्यों डरी हो दीदी

पीएम मोदी ने ममता पर वार करते हुए कहा कि दीदी, अब आपको क्या हो गया? आप क्यों बदल गईं? अब आप क्यों अफवाह फैला रही हो? चुनाव आते हैं, जाते हैं, सत्ता मिलती है चली जाती है, पर आप इतना क्यों डरी हो। पीएम मोदी ने रामलीला मैदान से कानून पर बोलते हुए कहा कि बंगाल की जनता पर भरोसा करो, बंगाल के नागरिकों को आपने दुश्मन क्यों मान लिया है? उन्होंने कहा कि कुछ साल पहले तक यही ममता दीदी संसद में खड़े होकर गुहार लगा रहीं थीं कि बांग्लादेश से आने वाले घुसपैठियों को रोका जाए, वहां से आए पीडि़त शरणार्थियों की मदद की जाए।


100 साल पुरानी पार्टी हिंसा पर चुप क्यों


कांग्रेस पर तीखा हमला बोलते हुए मोदी ने कहा कि 100 वर्ष पुराने राजनीतिक दल से जुड़े नेता शांति के लिए एक आवाज उठाने को तैयार नहीं हैं और मौन रहकर पुलिसकर्मियों एवं अन्य लोगों पर हिंसा को बढ़ावा दे रहे हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि आज जो लोग कागज-कागज, सर्टिफिकेट-सर्टिफिकेट के नाम पर मुस्लिमों को भ्रमित कर रहे हैं, उन्हें ये याद रखना चाहिए कि हमने गरीबों की भलाई के लिए, योजनाओं के लाभार्थी चुनते समय कभी कागजों की बंदिशें नहीं लगाईं।


पाक से आए शरणार्थियों में ज्यादातर दलित


मोदी ने कहा कि पाक से जो शरणार्थी आए हैं, उनमें से अधिकतर दलित परिवार से हैं। वहां आज भी दलितों के साथ दुव्र्यवहार होता है। वहां बेटियों के साथ अत्याचार होता है, जबरन शादी कर उन्हें धर्म परिवर्तन के लिए मजबूर किया जाता है। उन्होंने कहा कि झूठ बेचने वाले, अफवाह फैलाने वाले इन लोगों को पहचानने की जरूरत है। ये दो तरह के लोग हैं। एक वे लोग, जिनकी राजनीति दशकों तक वोट बैंक पर ही टिकी रही है। दूसरे वे लोग, जिनको इस राजनीति का लाभ मिला है।


आग लगाने वालों पर बरसे मोदी


उन्होंने कहा कि स्कूल बसों पर हमले हुए, ट्रेनों पर हमले हुए, मोटर साइकिलों, गाडिय़ों, साइकिलों, छोटी-छोटी दुकानों को जलाया गया है। भारत के ईमानदार टैक्सपेयर के पैसे से बनी सरकारी संपत्ति को खाक कर दिया गया है। इसके बाद इनके इरादे कैसे हैं, ये देश अब जान चुका है। मोदी ने कहा कि मैं इन लोगों को कहना चाहता हूं कि मोदी को देश की जनता ने बैठाया, ये अगर आपको पसंद नहीं है, तो आप मोदी को गाली दो, विरोध करो, मोदी का पुतला जलाओ, लेकिन देश की संपत्ति मत जलाओ, गरीब का रिक्शा मत जलाओ, गरीब की झोपड़ी मत जलाओ।


मुसलमानों को डरा रही है कांग्रेस
पीएम ने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि वह सीएए पर झूठ बोलकर अफवाह फैला रही है और मुसलमानों को डरा रही है। उन्होंने कहा कि इस बिल के पास होने के बाद कुछ राजनीतिक दल अफवाहें फैलाने में लगे हैं। वे लोग भ्रमित कर रहे हैं, भावनाओं को भड़का रहे हैं। मोदी ने कहा कि मैं इन भ्रम फैलाने वाले, झूठ बोलने वालों से पूछना चाहता हूं कि जब मैंने दिल्ली की सैकड़ों कॉलोनियों को वैध किया तो क्या किसी से पूछा था कि आपका धर्म क्या है, आपकी आस्था क्या है, आप किस पार्टी को वोट देते हैं? क्या हमने आपसे कोई सबूत मांगे थे? 70 का सबूत लाओ, 75 का सबूत लाओ, 80 का सबूत लाओ, क्या हमने मांगा था?


देश में कोई डिटेंशन सेंटर नहीं


उन्होंने कहा कि कांग्रेस और उसके साथी अर्बन नक्सली एनआरसी पर देश के मुसलमानों को डिटेंशन सेंटर का डर दिखा रहे हैं, जबकि उनकी सरकार बनने के बाद से आज तक एनआरसी शब्द की कभी चर्चा तक नहीं हुई। उन्होंने कहा कि डिटेंशन सेंटर में भेजने की बात तो दूर, देश में डिटेंशन सेंटर हैं ही नहीं। पीएम ने कहा कि कांग्रेस वोट बैंक के लिए बांटने की राजनीति करती आई है। वह सत्ता से दूर है तो उसने फिर से बांटने का अपना पुराना हथियार निकाल लिया है। उन्होंने मुसलमानों को आश्वासन दिया कि एनआरसी का उन पर कोई असर नहीं होगा। जो हिंदुस्तान की मिट्टी के मुसलमान हैं, जिनके पुरखे मां भारती की संतान हैं, उनसे नागरिकता कानून और एनआरसी, दोनों का कोई लेना-देना नहीं है।