प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को प्रसिद्ध सबरीमाला मंदिर मुद्दे पर सत्तारूढ़ पिनाराई विजयन सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने भगवान अयप्पा के निर्दोष भक्तों की लाठी-डंडों से पिटाई किए जाने को लेकर राज्य सरकार की कड़ी आलोचना की। मोदी भाजपा उम्मीदवारों के प्रचार के लिए केरल की अपनी दूसरी यात्रा पर हैं। जब वह कोनी पहुंचे तो एक बड़े जनसमूह ने उनका जोरदार स्वागत किया। उन्होंने अपने भाषण की शुरुआत से पहले ‘स्वामी शरणम अय्यप्पा’ के नाम का जप किया, जिसके बाद लोगों ने जमकर तालियां बजाई।

मोदी ने कहा, मैं वास्तव में भगवान अयप्पा द्वारा आशीर्वादित भूमि में खुश हूं, क्योंकि जो भक्त यहां पहुंचते हैं, वे 41 दिनों के कठोर व्रत (तपस्या) का पालन करके यहां आते हैं, जो इस स्थान को धन्य बनाता है। अय्यप्पा से हमने सीखा कि सभी का भला कैसे करना है। प्रधानमंत्री मोदी ने वाम सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि उसने सबसे पहले केरल की छवि को बिगाडऩे की कोशिश की। वाम सरकार ने  केरल की संस्कृति को पिछड़ा दिखाने की कोशिश की। मोदी ने अंबेडजर के भाषणों का हवाला देते हुए कहा कि लोकतंत्र में कम्युनिजम का कोई रोल नहीं है। उन्होंने कहा कि कम्युनिजम जंगर में लगी आग काी तहरह है जो खुद को जला डालती है। लेकिन भाजपा अपनी संस्कृति को बचाने का काम करेगी।

मोदी ने कहा कि स्वामी अयप्पा के भक्त अपराधी नहीं हैं। उन्होंने कहा कि वामपंथ का झूठ अब नहीं चलेगा। जिस विचारधारा को पूरी दुनिया में खारिज कर दिया गया हो उसे हमारी संस्कृति को बर्बाद करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारी ²ष्टि समावेशी है और हमारा काम व्यापक है। हम केरल की प्रगति को आगे बढ़ाएंगे और सबरीमाला संस्कृति की रक्षा करेंगे। उन्होंने भाजपा को वोट देने की अपील करते हुए अपना भाषण समाप्त किया। कोनी से वे कन्याकुमारी पहुंचे और वहां से केरल में अपनी तीसरी चुनावी रैली को संबोधित करने के लिए तिरुवनंतपुरम का दौरा करेंगे।