प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बंगलादेश स्वतंत्रता संग्राम के शहीदों को आज ढाका स्थित राष्ट्रीय शहीद स्मारक जाकर श्रद्धांजलि अर्पित की। मोदी बंगलादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना के निमंत्रण पर पड़ोसी देश की स्थापना के स्वर्ण जयंती वर्ष और बंगबंधु शेख मुजीबुर्रहमान की जन्मशती के कार्यक्रमों में भाग लेने के लिए दो दिन की यात्रा पर बंगलादेश गये हैं। 

यह स्मारक बांग्लादेश के 1971 के मुक्ति संग्राम में अपने जीवन को न्यौछावर करने वाले शहीदों का राष्ट्रीय प्रतीक है। यह स्मारक ढाका के उत्तर-पश्चिम से 35 किलोमीटर दूर सावर में स्थित है और इसे सैयद मैनुल हसन ने डिजाइन किया था। मोदी ने स्मारक परिसर में एक अर्जुन का पौधा भी लगाया और वहां आगंतुक पुस्तिका पर हस्ताक्षर करते हुए लिखा,  मैं प्रार्थना करता हूं कि सावर में प्रज्ज्वलित शाश्वत ज्योति कपट और उत्पीड़न पर सत्य और साहस की महान विजय की हमेशा याद दिलाती रहे। 

बाद में प्रधानमंत्री ने बंगलादेश में 14 दलों वाले गठबंधन के नेताओं और उनके संयोजक से मुलाकात की। इस दौरान दोनों देशों के संबंधों को और प्रगाढ़ करने के विभिन्न मुद्दों पर बातचीत की गई। वह बंगलादेश के सामुदायिक नेताओं से भी मिले जिनमें अल्पसंख्यक समुदाय के प्रतिनिधि, बांग्लादेशी मुक्तिजोद्धा और फ्रेंड्स ऑफ इंडिया एंड यूथ आइकन्स के प्रतिनिधि भी शामिल थे।