भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कोरोना पर राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात करते हुए विपक्षी मुख्यमंत्रियों पर महंगाई बम फोड़ा है। मोदी ने कुछ राज्यों का नाम लेकर खुले तौर पर कहा कि उन्होंने वैट नहीं घटाया जिसकी वजह से उन राज्यों में पेट्रोल-डीजल के दाम उनके पड़ोसी राज्यों की तुलना में ज्यादा हैं। जिन राज्यों का पीएम ने नाम लिया उनमें कोई भी भाजपा शासित नहीं है।

यह भी पढ़ें : त्रिपुरा को प्रगतिशील भविष्य देने के लिए CM बिप्लब देब ने की PM मोदी की तारीफ

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पिछले साल नवंबर में केंद्र सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर एक्साइज ड्यूटी घटाई थी और राज्यों से वैट कम करने को कहा था। लेकिन कई राज्यों ने ऐसा नहीं किया। मोदी बोले कि मैं किसी की आलोचना नहीं कर रहा हूं। बल्कि आपके राज्य के लोगों की भलाई के लिए प्रार्थना कर रहा हूं।

मोदी ने आगे महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, केरल, झारखंड, तमिलनाडु का नाम लिया और कहा कि इन्होंने किसी न किसी वजह से  केंद्र सरकार की बातों को नहीं माना मतलब वैट नहीं घटाया, जिसकी सीधा बोझ आम लोगों पर पड़ता रहा। मोदी ने यह भी कहा कि कुछ राज्यों ने वैट नहीं घटाया जिसका नुकसान उन पड़ोसी राज्यों को हुआ जिन्होंने पेट्रोल-डीजल पर वैट घटाया।

मोदी ने कुछ उदाहरण के तौर पर बताया कि चेन्नई में पेट्रोल 111 रुपये, जयपुर में 118 से भी ज्यादा, हैदराबाद में 119 से ज्यादा, कोलकाता में 115 से ज्यादा और मुंबई में 120 से ज्यादा है। ये उन राज्यों के शहर हैं जिन्होंने वैट में कटौती नहीं की।

यह भी पढ़ें : कस्टम विभाग ने इंफाल एयरपोर्ट से जब्त की सोने की 65 छड़ें, कीमत करोड़ों में

मोदी ने आगे कहा कि वहीं जिन्होंने कटौती की उनकी बात करें तो मुंबई के ही बगल में दमन-दीव में पेट्रोल के दाम 102 रुपये है। इसी तरह कोलकाता में 115 वहीं लखनऊ में 105, हैदराबाद में 119 तो जम्मू में 106, जयपुर में 118 वहीं गुवाहाटी में 105 रुपये पेट्रोल की कीमत है।

मोदी ने इन राज्यों के मुख्यमंत्रियों से कहा कि मेरी प्रार्थना है कि नंवबर में जो करना था, अब वैट कम करके आप नागरिकों को इसका लाभ पहुंचाएं। मोदी बोले, 'आग्रह करता हूं कि 6 महीने में जो रेवेन्यू बढ़ा, वह राज्य के काम आएगा। लेकिन अब पूरे देश का सहयोग करें।'