काशी के लोगों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज कई सौगातें देकर जाएंगे। न सिर्फ प्रशासनिक बल्कि राजनीतिक लिहाज से भी पीएम मोदी का वाराणसी दौरा अहम है। उत्‍तर प्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव हैं। ऐसे में मोदी आज बीजेपी के चुनाव अभियान का आगाज कर सकते हैं। कोविड-19 महामारी की वजह से मोदी को पिछले कुछ वक्‍त से वाराणसी आने का मौका नहीं मिल पाया। इस साल पीएम मोदी का यह पहला वाराणसी दौरा है। प्रधानमंत्री बनने के बाद से मोदी यहां 26 बार आ चुके हैं। आज वह 27वीं बार बाबा विश्‍वनाथ की नगरी में कदम रखेंगे।

पीएम मोदी के वाराणसी दौरे का कार्यक्रम

10.25 बजे : बाबतपुर एयरपोर्ट पर लैंड करेंगे पीएम

10.35 बजे : हेलिकॉप्‍टर से बीएचयू के लिए उड़ान

10.55 बजे : बीएचयू में बने हेलिपैड पहुंचेंगे

11.05 बजे : आईआईटी बीएचयू के एडीवी ग्राउंड में मंच पर मौजूदगी

12.20 बजे : एडीवी ग्राउंड से बीएचयू एमसीएच विंग के लिए निकलेंगे

12.30 बजे : एमसीएच विंग, क्षेत्रीय नेत्र संस्थान का उदघाटन

1.35 बजे : बीएचयू एमसीएच विंग से बीएचयू हेलिपैड की ओर वापसी

1.45 बजे : बीएचयू हेलिपैड से संस्कृत विवि हेलीपैड के लिए उड़ान

1.55 बजे : संस्कृत विवि हेलिपैड पर आगमन, रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर के लिए रवानगी

2.10 बजे : रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर पर पीएम का आगमन

2.45 बजे : संपूर्णानंद हेलिपैड से बाबतपुर एयरपोर्ट के लिए प्रस्‍थान

3.00 बजे : दिल्‍ली के लिए प्रस्‍थान

मोदी के रास्‍ते में बिछेंगे गुलाब

27वीं बार वाराणसी आ रहे मोदी के स्‍वागत में बीजेपी कार्यकर्ताओं ने खूब इंतजाम किए हैं। वे जिन रास्‍ते से गुजरेंगे, उनपर गुलाब की पंखुड़‍ियां बिखेरी जाएंगी। काशी होर्डिंग्‍स से पट चुकी है। एक व्‍यापारिक संगठन ने तो मोदी पर पुष्‍प वर्षा का प्‍लान भी बनाया है। बीएचयू भी सज-धजकर तैयार है।

कौन-कौन से प्रॉजेक्‍ट्स का उद्घाटन करेंगे पीएम मोदी

रुद्राक्ष - इंटरनैशनल कोऑपरेशन ऐंड कन्‍वेंशन सेंटर

बीएचयू में 100 बेड वाली 'मदर ऐंड चाइल्‍ड' विंग

गोदौलिया में मल्‍टीलेवल पार्किंग

पर्यटन विकास के लिए रो-रो नौकाएं

वाराणसी-गाजीपुर हाइवे पर तीन लेन वाला फ्लाईओवर

रुद्राक्ष कन्‍वेंशन सेंटर क्‍या है

'रुद्राक्ष' नाम है उस कन्‍वेंशन सेंटर का जो जापान और भारत की दोस्‍ती का प्रतीक बनेगा। 186 करोड़ रुपये की लागत से बना यह सेंटर सिगरा इलाके में बना है। 2.87 एकड़ में फैली इस इमारत में 1,200 लोग बैठ सकते हैं। जापान की मदद से तैयार इस कन्‍वेंशनन का मकसद लोगों के बीच सांस्‍कृतिक मेलजोल को बढ़ाना और काशी के पर्यटन को बढ़ावा देना है। पीएम जिस समय इसका उद्घाटन करेंगे, उस समय जापानी राजदूत भी मौजूद होंगे।