प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार में सड़क नेटवर्क को मजबूत करने के उद्देश्य से आज राष्ट्रीय राजमार्ग (एनएच) एवं सेतु निर्माण के लिए राज्य को 14260 करोड़ रुपये की नौ परियोजनाओं की सौगात दी। मोदी ने सोमवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बिहार में एनएच एवं सेतु निर्माण की नौ परियोजनाओं का शुभारंभ किया। 

इसमें 1150 करोड़ रुपये की लागत वाली एनएच-31 के बख्तियारपुर-रजौली 47.23 किलोमीटर खंड के चार लेन चौड़ीकरण (पैकेज-2), 2651 करोड़ रुपये की एनएच-31 के बख्तियारपुर-रजौली 50.83 किलोमीटर खंड के चार लेन चौड़ीकरण (पैकेज-3), 886 करोड़ रुपये की एनएच-30 के आरा-मोहनिया 54.53 किलोमीटर खंड का चौड़ीकरण (पैकेज-1) शामिल है। प्रधानमंत्री ने 856 करोड़ रुपये की लागत वाली एनएच-30 के आरा-मोहनिया 60.80 किलोमीटर खंड के चार लेन चौड़ीकरण (पैकेज-2) तथा 2288 करोड़ रुपये की एनएच-131(ए) के नरेनपुर-पूर्णिया 49 किलोमीटर खंड के चार लेन चौड़ीकरण, 913 करोड़ रुपये की एनएच-131(जी) के रामनगर-कन्हौली 39 किलोमीटर खंड (पटना रिंग रोड) के छह लेन चौड़ीकरण कार्य का शुभारंभ किया। 

इसी तरह मोदी द्वारा शुभारंभ की गई योजनाओं में 2927 करोड़ रुपये की एनएच-19 में गंगा नदी पर वर्तमान में महात्मा गांधी सेतु के समानांतर नए चार लेन पुल का पहुंच पथ के साथ (14.5 किलोमीटर), 1478 करोड़ रुपये की एनएच-106 में कोसी नदी पर नए चार लेन पुल का पहुंच पथ के साथ (28.93 किलोमीटर) तथा 1110 करोड़ रुपये की लागत वाली एनएच-131(बी) में गंगा नदी पर वर्तमान विक्रमशिला सेतु के समानांतर नए चार लेन पुल का पहुंच पथ के साथ (4.455 किलोमीटर) निर्माण कार्य का शुभारंभ शामिल है। पटना में महात्मा गांधी सेतु के समानांतर चार लेन पुल का निर्माण कार्य पूर्ण होने पर जाम की समस्या समाप्त होने के साथ ही उत्तर और दक्षिण बिहार के बीच आवागमन सुगम होगा। 

इसी तरह कोसी नदी पर सेतु के निर्माण से बिहार से नेपाल, पश्चिम बंगाल और पूर्वोत्तर राज्यों से संपर्क सुगम हो जाएगा। आरा-मोहनिया के बीच चार लेन एनएच निर्माण कार्य संपन्न होने के बाद पटना से वाराणसी की यात्रा करने में लोगों का समय बचेगा तथा बख्तियारपुर-रजौली मार्ग के निर्माण से बिहार और झारखंड के बीच सडक़ संपर्क बेहतर हो जाएगा। इन परियोजनाओं से बिहार के आर्थिक एवं सामाजिक विकास को बल मिलेगा। 

कार्यक्रम में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग एवं सूक्ष्म, लघु और मध्यम उपक्रम (एमएसएमई) मंत्री नितिन गडकरी, केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री रामविलास पासवान, केंद्रीय विधि मंत्री रविशंकर प्रसाद, केंद्रीय पशुपालन, डेयरी एवं मत्स्य पालन मंत्री गिरिराज ङ्क्षसह, केंद्रीय विद्युत, नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) आर. के. सिंह, केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग राज्य मंत्री जनरल वी. के. ङ्क्षसह, केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे, केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंत राय, बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी और पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव उपस्थित थे।