पीएम मोदी जैसलमेर में जवानों संग दिवाली मना रहे हैं और दुश्मन देशों को कड़ा संदेश दिया है। इस दौरान उन्होंने जवानों को संबोधित करते हुए आतंकवाद से लेकर देश की अर्थव्यवस्था से जुड़े तमाम मुद्दे उठाए। पीएम ने कहा कि देश की सरहद पर हो, आसमान पर हो या फिर समंदर में राष्ट्र रक्षा में जुटे हुए देश की बेटियां और बेटे, हर सुरक्षा बल, हर किसी को दीपावली के इस पावन पर्व पर नमन करता हूं। प्रधानमंत्री ने कहा कि आप हैं तो देश है, देश के ये त्यौहार हैं। मैं आपके बीच प्रत्येक भारतवासी की शुभकामनाएं लेकर आया हूं। देशवासियों का प्यार लेकर आया हूं। हर वरिष्ठ जन का आशीष लेकर आया हूं।

उन्होंने कहा आप भले बर्फीली पहाड़ियों पर रहें या फिर रेगिस्तान में, मेरी दीवाली तो आपके बीच आकर ही पूरी होती है। आपके चेहरों की रौनक देखता हूं, आपके चेहरे की खुशिया देखता हूं, तो मुझे भी दोगुनी खुशी होती है। हिमालय की बुलंदियां हों, रेगिस्तान का विस्तार हो, घने जंगल हों या फिर समंदर की गहराई हो, हर चुनौती पर हमेशा आपकी वीरता भारी पड़ी है।

पीएम ने चीन का नाम लिए बिना कहा कि आज पूरा विश्व विस्तारवादी ताकतों से परेशान है, विस्तारवाद एक तरह से मानसिक विकृति है, 18वीं शताब्दी की सोच है इसके खिलाफ भारत आवाज बन रहा है। आज भारत की रणनीति साफ है, आज का भारत समझने और समझाने की नीति पर विश्वास करता है। लेकिन अगर हमें आजमाने की कोशिश की तो जवाब भी उतना ही प्रचंड मिलेगा।

सर्जिकल स्ट्राइक, एयर स्ट्राइक की चर्चा करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज भारत आतंकियों को घर में घुस कर मारता है। आज दुनिया जान रही है, समझ रही है कि ये देश अपने हितों से रत्ती भर भी समझौता करने वाला नहीं है। भारत का ये रुतबा ये कद आपके पराक्रम के कारण है।