किसानों के हित के लिए केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार की तरफ से कई तरह की योजनाएं चलाई जा रही हैं। इनका फायदा देश के करोड़ों किसान उठा रहे हैं। केंद्र सरकार की इन्हीं योजनाओं में एक है किसान मानधन योजना। इस योजना से सरकारी नौकरी करने वाले लोगों की तरह ही किसानों को भी हर महीने पेंशन मिलती है। पीएम किसान मानधन योजना के तहत 60 साल की उम्र के बाद पेंशन का प्रावधान है। इस योजना में 18 साल से 40 साल तक की उम्र का कोई भी किसान रजिस्ट्रेशन करा सकता है।

किसान मानधन योजना के लिए रजिस्ट्रेशन करवाने वाले किसानों को हर महीने 3000 रुपए की पेंशन मिलती है। हालांकि इसके लिए किसानों को हर महीने अंशदान 55 रुपये से 200 रुपये तक मंथली प्रीमियम देना होता है। अबतक इस स्कीम से 21 लाख से जुड़ चुके हैं। जो किसान इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं वे एलआईसी एजेंट के जरिए रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं।

इस योजना का लाभ 18 से 40 वर्ष तक की उम्र वाले किसान उठा सकते हैं। योजना के तहत न्यूनतम 20 साल और अधिकतम 40 साल तक करीब 55 रुपये से 200 रुपये तक मासिक अंशदान करना होगा। इस योजना के अंतर्गत जितना योगदान किसान का होगा उसी के बराबर योगदान सरकार भी करेगी। यानि अगर कोई किसान 100 रुपए अंशदान दे रहा है तो केंद्र सरकार भी 100 रुपए अंशदान देगी।

इसके लिए किसान को नजदीकी कॉमन सर्विस सेंटर पर जाकर अपना रजिस्ट्रेशन करवाना होता है। इसके लिए किसान का आधार कार्ड और खसरा-खतौनी की नकल ले जानी है। इसके अलावा किसान की 2 पासपोर्ट साइज फोटो और बैंक की पासबुक की भी आवश्यकता होगी। रजिस्ट्रेशन के दौरान किसान को पेंशन यूनिक नंबर और पेंशन कार्ड बना दिया जाएगा।