पीएम किसान सम्मान निधि योजना की आठवीं किस्त जल्द जारी होने वाली है, लेकिन गलत जानकारी देने वालों को यह राशि नहीं मिलेगी। अगर आप भी इस योजना के लाभार्थी हैं तो आपको लिस्ट में अपना नाम चेक कर लेना चाहिए। एक बात और अगर आप इस योजना की गाइडलाइंस के तहत सही लाभार्थी नहीं हैं तो आपको अपना नाम हटा लेना चाहिए, नहीं तो ये आपको भारी पड़ सकता है। सरकारी पैसा तो वापस देना ही पड़ेगा साथ ही आपके खिलाफ कार्रवाई भी हो सकती है।

किसान सम्मान निधि की अब तक 7 किस्त किसानों के खाते में ट्रांसफर की जा चुकी हैं। अब आठवीं किस्त का इंतजार हो रहा है। किसान सम्मान निधि की गाइडलाइंस के मुताबिक हर साल 4-4 महीने के अंतराल पर साल में 3 बार 2-2 हजार रुपये की किस्त जारी की जाती है।

pmkisan.gov.in के मुताबिक अब तक 11 करोड़ 26 लाख से ज्यादा किसानों को सम्मान निधि का फायदा मिल चुका है। मोदी सरकार ने इस योजना को 1 दिसंबर 2018 को शुरू किया था जिसके बाद से लाभार्थी किसानों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है।

किसान सम्मान निधि का पैसा सीधे किसान के खाते में भेजा जाता है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक दिसंबर 2020 से मार्च 2021 वाली अवधि में अब तक कुल 9 करोड़ 64 लाख 9 हजार और 263 रुपये किसान सम्मान निधि के तहत दिए जा चुके हैं।

pmkisan.gov.in के मुताबिक पिछले साल अगस्त से नवंबर के बीच कुल 10 करोड़, 21 लाख, 35 हजार और 267 रुपये किसानों के खाते में भेजे गए थे लेकिन दिसंबर से मार्च के बीच ये आंकड़ा घट गया क्योंकि जिन लोगों ने गलत जानकारी देकर सम्मान निधि का फायदा लिया था उनका पैसा अगली किस्त में रोक दिया गया।

किसान सम्मान निधि का फायदा कुछ लोगों ने गलत जानकारी देकर भी ले लिया है। इन सभी लोगों का फिर से वेरिफिकेशन कराया जा रहा है और जिन लोगों की जानकारी गलत पाई जा रही है उनसे सरकारी पैसा तो वापस लिया ही जा रहा है, कार्रवाई भी की जा रही है। जांच के बाद फर्जी किसानों का नाम लाभार्थी की लिस्ट से हटा दिया गया है। ऐसे में आप भी  pmkisan.gov.in पर विजिट कर अपने आधार नंबर, बैंक खाता संख्या और मोबाइल नंबर के जरिए अपना स्टेटस पता कर सकते हैं।