वैश्विक दवा कंपनी फाइजर ने गुरुवार को कहा कि भारत में फाइजर या बायोएनटेक का कोरोना टीका उपलब्ध कराने के लिए केंद्र सरकार के साथ काम करने के लिए प्रतिबद्ध है।

आपको बता दें कि ब्रिटेन दुनिया का पहला देश बन गया है जिसने फाइजर या बायोएनटेक टीके के आकस्मिक इस्तेमाल को मंजूरी प्रदान कर दी। ब्रिटेन के दवा नियामक मेडिसिंस एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स रेग्युलेटरी एजेंसी (एमएचआरए) ने कंपनी के टीके को अस्थायी मंजूरी दे दी है। यह टीका ब्रिटेन में अगले हफ्ते से उपलब्ध होगा।

फाइजर के प्रवक्ता ने एक बयान में कहा-अभी हम कई सरकारों के साथ बातचीत की प्रक्रिया में हैं, हम भारत में टीका उपलब्ध कराने के लिए सरकार के साथ काम करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। महामारी के दौर में फाइजर इस टीके को सिर्फ सरकारी अनुबंधों के माध्यम से उपलब्ध कराएगी।

फाइजर की कोरोना वैक्सीन से फिलहाल भारत को नहीं है फायदा

ब्रिटेन, दवा कंपनी फाइजर-बायोएनटेक के कोविड-19 टीके को मंजूरी देने वाला पहला देश बन गया है। फिलहाल इस वैक्सीन से भारत को फायदा नहीं है, क्योंकि भारत के साथ इसका करार नहीं हैं।  ब्रिटेन की दवा और स्वास्थ्य उत्पाद नियामक एजेंसी (एमएचआरए) ने बताया कि यह टीका उपयोग में लाने के लिए सुरक्षित है। दावा किया गया था कि यह टीका कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए 95 प्रतिशत तक असरदार रहा है। प्रमुख अमेरिकी दवा कंपनी फाइजर और जर्मन कंपनी बायोएनटेक ने साथ मिलकर इस टीके को विकसित किया है। इस टीके को फिलहाल बीएनटी162बी2 नाम दिया गया है।