अगर आपका किसी सरकारी या गैर सरकारी कंपनी में काम करते हुए पीएफ कटता है तो यह खबर आपके बड़े ही काम आने वाली है। कर्मचारी भी जॉब करते हुए चाहते हैं कि पीएफ कटे, जिससे पैसा इकट्ठा हो जाए, लेकिन आपको इससे मिलने वाले फादये के बारे में जरूर पता होना चाहिए। पीएफ खाताधारकों को इस अकाउंट पर कई बड़े फायदे मिलते हैं।

जैसे ही किसी कर्मचारी का पीएफ खाता एक्टिव होता है, तब वह बाई डिफॉल्‍ट इंश्‍योर्ड भी हो जाता। एम्‍प्‍लॉई डिपोजिट लिंक्‍ड इंश्‍योरेंस (ईडीएलआई) के तहत कर्मचारी का 6 लाख रुपये तक बीमा मिलता है। 

ईपीएफओ के सक्रिय सदस्‍य की सर्विस अविध के दौरान मृत्‍यु होने पर उसके नामित या कानूनी वारिस को 6 लाख रुपये तक का भुगतान किया जाता है। यह लाभ कंपनियां और केंद्र सरकार अपने कर्मचारियों को मुहैया करवाती हैं।

PF अकाउंट में जमा कंट्रीब्यूशन में से 8.33% कर्मचारी पेंशन स्कीम में चला जाता है, जो रिटायरमेंट के बाद पेंशन के रूप में मिलता है। पेंशन व्यक्ति के बुढ़ापे का सबसे बड़ा सहारा होता है, जिसके लिए सरकार भी कई स्कीम चलाती है।

पीएफ फंड की एक बेहतरीन सुविधा ये भी है कि ज़ररुत के समय इसमें से कुछ पैसे निकाले भी जा सकते हैं, जिससे आप लोन की संभावनाओं से बच पाएंगे।

वहीं अगर आपको टैक्स में छूट चाहिए तो भी पीएफ सबसे बेहतर विकल्प है। नए टैक्स सिस्टम में ऐसी सुविधा नहीं है, जबकि पुराने टैक्स सिस्टम में टैक्स पर डिस्काउंट मिलता है।

ईपीएफ खाताधारक इनकम टैक्‍स की धारा 80सी के तहत अपनी सैलरी पर बनने वाले टैक्‍स में 12 फीसद की बचत हो सकती है। बता दें कि पीएफ काटने की रकम जमा करने वाली संस्था ईपीएफ समय-समय पर अपने खाताधारकों को नई-नई जानकारियां देती रहती है।