जल्द ही पेट्रोल पर होने वाला आपका खर्च कम हो जाएगा। बाजार में ऐसी बाइकें भी उपलब्ध होंगी जो मेथेनॉल (कार्बनिक यौगिक) से दौड़ेंगी। दुनिया के टॉप वैज्ञानिकों में शुमार आईआईटी कानपुर के सीनियर प्रोफेसर अविनाश अग्रवाल और उनकी टीम ने मेथेनॉल से बाइक को चलाने की तरकीब खोज निकाली है।

पहले चरण में 100 और 125 सीसी की हीरो मोटोकॉर्प की बाइक और रॉयल इनफील्ड की बुलेट पर प्रयोग कामयाब रहा है। अब अगले चरण में कार के लिए इंजन बनाया जाएगा। खास बात है कि मेथेनॉल से वाहन चलाने पर वायु प्रदूषण भी कम होगा और पेट्रोल के मुकाबले यह 40 प्रतिशत सस्ता भी पड़ेगा। अभी तक चीन में ही इस तकनीक के सहारे पेट्रोल में 20 फीसदी मेथेनॉल मिश्रण से वाहन चलाए जाते हैं। लेकिन आईआईटी ने 85 फीसदी मेथेनॉल मिश्रण से वाहन चलाने में कामयाबी हासिल की है।

आईआईटी के मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग के प्रोफेसर अविनाश अग्रवाल की टीम ने एक ऐसा इंजन बनाया है, जिसके जरिये मेथेनॉल से बाइक को चलाना मुमकिन है। प्रोफेसर अग्रवाल ने बताया कि उन्होंने इसका सफल परीक्षण भी कर लिया है। अब हीरो मोटोकॉर्प और रॉयल इनफील्ड की फ्लीट ट्रायल कर रही है। अगर सब कुछ सही रहा और सरकार इसकी मंजूरी देती है तो आने वाले छह माह में मेथेनॉल मिश्रित ईंधन और इस तरह की बाइकें बाजार में उपलब्ध होंगी।

प्रो. अग्रवाल ने बताया कि बीते एक साल में संस्थान में 100 सीसी से 500 सीसी वाली मोटरसाइकिलों को मेथेनॉल से चलाने पर काम किया गया। अभी तक किसी बाइक में कोई समस्या सामने नहीं आई है। प्रो. अग्रवाल के मुताबिक 100 सीसी वाहन में एम-15 प्रयोग किया जाएगा। 15 प्रतिशत मेथेनॉल और 85 प्रतिशत पेट्रोल। इसका प्रयोग सामान्य बाइकों में भी किया जा सकेगा। किसी भी बाइक के कारबोरेटर में बस थोड़ा सा बदलाव करना पड़ेगा। इसमें महज 100 रुपये तक खर्च होंगे।