कहते जल्दी का काम शैतान का होता है क्योंकि जल्दबाजी में हमेशा काम बिगड़ जाता है। इसी जल्दबादी का शिकार 11 लोग गए हैं जो अस्पताल में अपने जीवन से जूझ रहे हैं। दरअसल में महाराष्ट्र के पुणे में अंतिम संस्कार के दौरान शव को जल्दी जलाने के लिए चिता पर पेट्रोल डाल दिया। इससे इतना खतरनाक धमाका हुआ कि 11 लोग चपेट में आए और बुरी तरह से झुलस गए।



अभी सभी अस्पताल में भर्ती है। पुलिस ने इस मामले में जानकारी देते हुए कहा कि दाह संस्कार (जलने) की प्रक्रिया को तेज करने के लिए एक व्यक्ति ने चिता में पेट्रोल डाल दिया इस कारण वहां विस्फोट हो गया जिसमें कई लोग घायल हो गए। यह घटना पुणे में ताडीवाला रोड पर स्थित एक शवदाह गृह में शनिवार शाम के समय की है।



पुलिस कमिश्नर सागर पाटिल ने बताया कि घटना शाम सात बजे कैलाश शवदाह गृह में हुई। उन्होंने बताया, ‘पहले से जल रही चिता पर जब ईंधन डाला गया तो वह बह गया और आग फैल गई। करीब 11 लोग झुलस गये’।

 

यह भी पढ़ें- असम पुलिस ने 3 'जिहादी' मॉड्यूल का किया भंडाफोड़, AQIS के नेता गिरफ्तार


वहीं एक अन्य अधिकारी ने कहा कि कुछ लोग बहुत बुरी तरह से झुलस गए हैं। उन्होंने बताया कि कथित रूप से आत्महत्या करने वाले दीपक काम्बले नाम के व्यक्ति की शवदाह गृह में अंत्येष्टि की जा रही थी। अधिकारी ने बताया कि कांबले के बेटे के अनुसार श्मशान में परिवार के सदस्यों सहित करीब 80 लोग मौजूद थे।